कोरोना काल (मंज़र के दिन)-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

कोरोना काल (मंज़र के दिन)-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore   जरूर इतने दिन मजबूर था मैं अपने धंधे से दूर था मैं मगर अब फिर काम पर जाना है फिर अपनों को गले लगाना है अब वह तमाम जतन करने हैं जीने के नए प्रयत्न करने हैं सहज ही रखने हैं हर कदम सांसो की तारतम्यता के उधम कुछ महीने सब को क्षीण कर गए जिंदगी को दो पल…

Continue Readingकोरोना काल (मंज़र के दिन)-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

पथिक पथ प्रेरणा (काव्य)-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

पथिक पथ प्रेरणा (काव्य)-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore   आशा के कुछ क्षणभर लेकर, साहस भरे कदमों से चलकर आँधी और तूफ़ानों से लड़ना शत्रु से शत्रु बन भिड़ना प्रखरता के चरम क्षणों में पत्थर बनकर न बिखरूँगा निज कर्मों से निखरूँगा यश-अपयश और क्षमा-याचना, सुख- दुःख में कर पाप-प्रार्थना ध्येय के पथ से न बिसरूँगा निज कर्मों से निखरूँगा कुंठा, व्यथा, चित कामना धूमिल भाव की द्वेग भावना…

Continue Readingपथिक पथ प्रेरणा (काव्य)-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

निज हित के प्रयास भुलाकर-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

निज हित के प्रयास भुलाकर-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore रावतरस (श्रद्धा सुमन) 🌺🌺🌺🌺 निज हित के प्रयास भुलाकर निज प्राणों से ऊपर उठकर जो देश के हित सब करते हैं वो वीर भला कब मरते हैं! तीक्ष्ण धूप में, शीत- धार में घोर बसंत में, सूखे पतझड़ कदम बड़े जो धरते हैं वो वीर भला कब मरते हैं! काल के बादल छा जाने से ग़म का तम सब छाया…

Continue Readingनिज हित के प्रयास भुलाकर-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

मेरा जीवन विशेष था-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

मेरा जीवन विशेष था-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore   मजबूरियां भी कम न थी, ख़ामोश था सफर मेरा। अभी उभरना शेष था मेरा जीवन विशेष था।। अपनों ने लूटा, तो गैरों ने मारा हर भट्टी पर तपा दिया मैंने जीवन सारा कड़वा सत्य बोलकर मेरा भाव निःशेष था मेरा जीवन विशेष था।। मैं टूटा बिखरा कई दफा सब हथौड़े भी अपने थे, मैं ख़ामोश हर चोट पर था अभी…

Continue Readingमेरा जीवन विशेष था-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

कल कभी नहीं आता है-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

कल कभी नहीं आता है-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore   ये सोचा कि कल कर दूंगा सारी समस्या हल कर दूंगा ला दूंगा नभ को पांव किनारे तज दूंगा सहारे न्यारे न्यारे और करूंगा भ्रम समर्पण स्वयं को लौ में करके अर्पण मैं आकाश भर के सारे तारे ला दूंगा स्वयं भुजबंध किनारे बहेगी संघर्ष रुप बन धारा वर्चस्व रहेगा सिर्फ हमारा कल तो मैं ये सब कर दूंगा…

Continue Readingकल कभी नहीं आता है-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore

तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore कल कभी नहीं आता है-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore मेरा जीवन विशेष था-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore कोरोना काल (मंज़र के दिन)-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore पथिक पथ प्रेरणा (काव्य)-तनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra…

Continue Readingतनेंद्र सिंह राठौड़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Tanendra Singh Rathore