हाय जिया रोए रोए-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

हाय जिया रोए रोए-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan हाय जिया रोए रोए पिया नाहि आए आए हाय जिया रोए रोए इक मैं ही जागूँ सारा जग सोए हाय जिया रोए रोए तुमने तो देखा होगा, ऐ चाँद तारो कित गए मोरे सैंया, तुम ही पुकारो ओ तुम ही पुकारो, जाओ उनको इतना बताओ हाय जिया रोए रोए ... कब तक जिये कोई बिरहा की मारी चँदा तेरी चाँदनी मोहे लागे…

Continue Readingहाय जिया रोए रोए-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

तेरी दुनिया से होके मजबूर चला-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

तेरी दुनिया से होके मजबूर चला-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan तेरी दुनिया से होके मजबूर चला मैं बहुत दूर, बहुत दूर, बहुत दूर चला तेरी दुनिया से होके मजबूर चला मैं बहुत दूर, बहुत दूर, बहुत दूर चला तेरी दुनिया से इस क़दर दूर के फिर, लौट के भी आ न सकूँ ऐसी मंज़िल के जहाँ, खुद को भी मैं पा न सकूँ और मजबूरी है क्या? और मजबूरी है…

Continue Readingतेरी दुनिया से होके मजबूर चला-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

वफ़ा जिनसे की, बेवफ़ा हो गए-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

वफ़ा जिनसे की, बेवफ़ा हो गए-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan हो गए दो रोज़ में, आबाद भी बरबाद भी अब तमन्ना है यही, आए न उनकी याद भी वफ़ा जिनसे की, बेवफ़ा हो गए वो वादे मोहब्बत के क्या हो गए जो कहते थे हम को, सदा हैं तुम्हारे ज़माने में सबसे, जिन्हे हम थे प्यारे वो ही आज हमसे जुदा हो गए वो इतना बता दें, कभी पास आके…

Continue Readingवफ़ा जिनसे की, बेवफ़ा हो गए-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

तुझे सूरज कहूं या चंदा-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

तुझे सूरज कहूं या चंदा-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan तुझे सूरज कहूं या चंदा तुझे दीप कहूं या तारा मेरा नाम करेगा रौशन जग में मेरा राज दुलारा मेरा घर था खाली खाली छाई थी अजब उदासी जीवन था सूना सूना हर आस थी प्यासी प्यासी तेरे आते ही खुशियों से भार गया है जीवन सारा मेरा नाम करेगा रौशन ... मैं कब से तरस रहा था मेरे आँगन में…

Continue Readingतुझे सूरज कहूं या चंदा-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

ओ नन्हे से फ़रिश्ते, तुझ से ये कैसा नाता-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

ओ नन्हे से फ़रिश्ते, तुझ से ये कैसा नाता-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan ओ नन्हे से फ़रिश्ते, तुझ से ये कैसा नाता कैसे ये दिल के रिश्ते, ओ नन्हे से फ़रिश्ते happy birthday to you ... तुझे देखने को तरसे, क्यों हर घड़ी निगाहें बेचैन सी रहती हैं, तेरे लिये ये बाहें मुझे खुद पता नहीं है, मुझे तुझसे प्यार क्यूं है, ओ नन्हे ... नाज़ुक सा फूल है तू,…

Continue Readingओ नन्हे से फ़रिश्ते, तुझ से ये कैसा नाता-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी नए दौर में लिखेंगे, मिल कर नई कहानी हम हिंदुस्तानी, हम हिंदुस्तानी आज पुरानी ज़ंजीरों को तोड़ चुके हैं क्या देखें उस मंज़िल को जो छोड़ चुके हैं चांद के दर पर जा पहुंचा है आज ज़माना नए जगत से हम भी नाता जोड़ चुके हैं नया खून है नई…

Continue Readingछोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

मेरा रंग दे बसंती चोला-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

मेरा रंग दे बसंती चोला-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan ओ मेरा रंग दे बसंती चोला मेरा रंग दे ओ मेरा रंग दे बसंती चोला ओये रंग दे बसंती चोला माये रंग दे बसंती चोला दम निकले इस देश की खातिर बस इतना अरमान है एक बार इस राह में मरना सौ जन्मों के समान है देख के वीरों की क़ुरबानी अपना दिल भी बोला मेरा रंग दे बसंती चोला ओ…

Continue Readingमेरा रंग दे बसंती चोला-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan 

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan जलते भी गये, कहते भी गये आज़ादी के परवाने जीना तो उसी का जीना है जो मरना वतन पे जाने ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम तेरी राहों में जाँ तक लुटा जायेंगे फूल क्या चीज़ है तेरे कदमों पे हम भेंट अपने सरों की चढ़ा जायेंगे ऐ वतन ऐ वतन कोई पंजाब से, कोई महाराष्ट्र से कोई…

Continue Readingऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी क़सम-गीत -प्रेम धवन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Prem Dhawan