पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita -पद्मा सचदेव  मेरी कविता मेरे गीत : पद्मा सचदेव

पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita -पद्मा सचदेव  मेरी कविता मेरे गीत : पद्मा सचदेव मेरी कविता मेरे गीत -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita -पद्मा सचदेव  मेरी कविता मेरे गीत : पद्मा सचदेव (Download pdf) तेरी बातें ही सुनाने आए (रुबाइयाँ)-तेरी बातें ही सुनाने आए (रुबाइयाँ)(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव)  ये राजा के महले क्या आपके हैं?-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा…

Continue Readingपद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita -पद्मा सचदेव  मेरी कविता मेरे गीत : पद्मा सचदेव

मेरी कविता मेरे गीत -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita -पद्मा सचदेव  मेरी कविता मेरे गीत : पद्मा सचदेव (Download pdf)

मेरी कविता मेरे गीत -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita -पद्मा सचदेव  मेरी कविता मेरे गीत - पद्मा सचदेव (Download pdf) मेरी कविता मेरे गीत -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita -पद्मा सचदेव  मेरी कविता मेरे गीत -पद्मा सचदेव Read here or download to read as you like this great pdf Download pdf

Continue Readingमेरी कविता मेरे गीत -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita -पद्मा सचदेव  मेरी कविता मेरे गीत : पद्मा सचदेव (Download pdf)

तेरी बातें ही सुनाने आए (रुबाइयाँ)-तेरी बातें ही सुनाने आए (रुबाइयाँ)(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

तेरी बातें ही सुनाने आए (रुबाइयाँ)-तेरी बातें ही सुनाने आए (रुबाइयाँ)(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) आये हैं पहाड़ जान आ गयी देह में सुख मीठा-मीठा भर गयी थक गयी है ज़िंदगी देते हिसाब बीजों की तरह थे बिखरे घर कई आज न आयी तो कल रखो उम्मीद गुंजलक से भरी पगडंडी अजीब देखा-देखी तो बलम हो जाने दो तेरे हाथों में नहीं मेरा नसीब उबली, खौलकर ये बाहर…

Continue Readingतेरी बातें ही सुनाने आए (रुबाइयाँ)-तेरी बातें ही सुनाने आए (रुबाइयाँ)(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

ये राजा के महले क्या आपके हैं?-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

ये राजा के महले क्या आपके हैं?-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) ये राजा के महले क्या आपके हैं? मैं घर से बेघर हो चुकी हूँ मेरी आँखों की ज्योति छिन चुकी है मुझे अंधी करके जो फेंक गए हैं मेरे बागीचे से जो मेरा पौधा उखाड़ कर ले गए मेरे पौधे को बौर भी पड़ा न था मेरा साजन बहुत दूर भी तो न गया…

Continue Readingये राजा के महले क्या आपके हैं?-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

गीत-भगवान्‌ मुझे, गर्मी का मौसम दो-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

गीत-भगवान्‌ मुझे, गर्मी का मौसम दो-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) भगवान्‌ मुझे, गर्मी का मौसम दो, दु:ख सुख दो परन्तु मैके से हमेशा मुझे ठंडी हवा आए सुख का संदेशा आवे कोई उड़ता पक्षी कभी मेरे घर के ऊपर से गुजरे या कोई योगी भिक्षा माँगता हुआ आवे मेरी मां का कोई संदेशा हो तो यही हो कि तेरे भाई राजी-खुशी हैं । ससुराल जाती…

Continue Readingगीत-भगवान्‌ मुझे, गर्मी का मौसम दो-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

माँ की पहचान-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

माँ की पहचान-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) यदि वह किसी को देखकर हंसती है तो तेरे होंठ अपने-आप खुल जाते हैं अगर वह किसी को देखकर गुस्सा होती हैं तो तेरे आँसू अनायास ही ढुलक पड़ते हैं अगर वह खटोले पर बैठी दिखाई देती है तो तुम भी वाही पकड़कर खड़े होने का यत्न करते हो उसे खाली बैठी देखकर तुम उसके आंचल में छुप…

Continue Readingमाँ की पहचान-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

डोली-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

डोली-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) अंधेरा पहाड़ी के ऊपर सहम-सहम कर चढ़ रहा है पर्वतों की चोटियों पर चाँद का प्रकाश छन-छन कर आ रहा है पहरा देते वृक्ष सुबह होने की प्रतीक्षा में हैं इस जगह का सुनसान वातावरण किसी आशा में स्तब्ध है हाथ को हाथ नहीं सुझाई देता, कान में कोई आवाज नहीं पड़ती क्या रानी क्या दासी सभी साँस रोके प्रतीक्षा…

Continue Readingडोली-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

काश-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) 

काश-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव) जो मैं किसी अंधेरे वन के एक कोने में भुर्जी होती जो मैं उतनी धरती होती जितनी पर प्रियतम तुम चलते घास बनूं उग जाऊं तेरे सारे जूठे वरतन मल दूं मार-पीटकर कोई मानव मुझे बनाए कागज कोरा हाथों से मुझको थामे तुम गहरी सोच मुझी पर लिखते मेरी कामना पूरी होती मेरा प्यार मुझे मिल जाता किसी कपास के…

Continue Readingकाश-मेरी कविता मेरे गीत(डोगरी कविता)-पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev(अनुवादिका: पद्मा सचदेव)