क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-5, क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-4, क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-3, क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-2 क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता…

Continue Readingक़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-5, क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-4, क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-3, क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-2 क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi…

Continue Readingअब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-5,

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-5, शिकन न डाल जबीं पर शराब देते हुए शिकन न डाल जबीं पर शराब देते हुए ये मुस्कुराती हुई चीज़ मुस्कुरा के पिला सुरूर चीज़ की मिक़दार पर नहीं मौक़ूफ़ शराब कम है तो साक़ी नज़र मिला के पिला साहिल पे इक थके हुए जोगी की बंसरी साहिल पे इक थके हुए जोगी की बंसरी तल्क़ीन कर रही है किनारा है ज़िंदगी तूफ़ान…

Continue Readingक़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-5,

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-4,

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-4, दिल की हस्ती बिखर गई होती दिल की हस्ती बिखर गई होती रूह के ज़ख़्म भर गए होते ज़िंदगी आप की नवाज़िश है वर्ना हम लोग मर गए होते न ख़ुदा है न नाख़ुदा साथी न ख़ुदा है न नाख़ुदा साथी नाव को आप ही चलाना है या बग़ावत से पार उतरना है या रऊनत से डूब जाना है नाख़ुदा किस लिए परेशाँ…

Continue Readingक़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-4,

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-3,

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-3, जाम उठा और फ़ज़ा को रक़्साँ कर जाम उठा और फ़ज़ा को रक़्साँ कर ख़ुद-ब-ख़ुद कोई रुत नहीं फिरती वक़्त की तंग-दिल सुराही से मय की इक बूँद भी नहीं गिरती जा रहा था हरम को मैं लेकिन जा रहा था हरम को मैं लेकिन रास्ते में ब-ख़ूबी-ए-तक़दीर इक मक़ाम ऐसा आ गया जिस ने डाल दी मेरे पाँव में ज़ंजीर जिन को…

Continue Readingक़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-3,

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-2

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-2 ऐ ख़राबात के ख़ुदावंदो ऐ ख़राबात के ख़ुदावंदो दस्त-ए-अल्ताफ़ को खुला रक्खो जो मोहब्बत से चल के आ जाए उस की उम्मीद को हरा रक्खो ऐ गदागर ख़ुदा का नाम न ले ऐ गदागर ख़ुदा का नाम न ले इस से इंसाँ का दिल नहीं हिलता ये है वो नाम जिस की बरकत से अक्सर औक़ात कुछ नहीं मिलता ऐ मिरा जाम तोड़ने…

Continue Readingक़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-2

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-1

क़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, अब भी साज़ों के तार हिलते हैं अब भी शाख़ों पे फूल खिलते हैं तुम ने हम को भुला दिया तो क्या अब भी राहों में चाँद मिलते हैं अब मिरी हालत-ए-ग़मनाक पे कुढ़ना कैसा अब मिरी हालत-ए-ग़मनाक पे कुढ़ना कैसा क्या हुआ मुझ को अगर आप ने नाशाद किया हादसा है मगर ऐसा तो अलमनाक नहीं यानी इक दोस्त नय इक दोस्त को…

Continue Readingक़ितआ -अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, Part-1

ग़ज़ल-अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,

ग़ज़ल-अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, हँस हँस के जाम जाम को छलका के पी गया -ग़ज़ल-अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, हँस के बोला करो बुलाया करो -ग़ज़ल-अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, हसीन नग़्मा-सराओ! बहार के दिन हैं -ग़ज़ल-अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita, हवा सनके तो ख़ारों को बड़ी तकलीफ़…

Continue Readingग़ज़ल-अब्दुल हमीद अदम-Abdul Hameed Adam-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita,