dr-Rahat-indori-last-sher-ख़ामोशी-ओढ़-के-सोई-हैं

dr. Rahat indori last sher, ख़ामोशी ओढ़ के सोई हैं मस्ज़िदें सारी, किसी की मौत का ऐलान भी नहीं होता..

दुनिया से विदा होने से पहले राहत इंदौरी का आखिरी शेर: ‘ख़ामोशी ओढ़ के सोई हैं मस्ज़िदें सारी, किसी की मौत का ऐलान … dr. Rahat indori last sher, ख़ामोशी ओढ़ के सोई हैं मस्ज़िदें सारी, किसी की मौत का ऐलान भी नहीं होता.. #Rahat #indori #sher #ख़मश #ओढ़ #क #सई #ह #मसज़द #सर #कस …

dr. Rahat indori last sher, ख़ामोशी ओढ़ के सोई हैं मस्ज़िदें सारी, किसी की मौत का ऐलान भी नहीं होता.. Read More »