1970 ke geet ke bol hindi me

post Contents ( Hindi.Shayri.Page)

1970 ke geet ke bol hindi me

 

माना हो तुम – Maana Ho Tum (Yesudas, Toote Khilone)

Movie Name /Album Name- टूटे खिलौने (1978)
Music Producer/Music By- बप्पी लाहिड़ी
Lyrics Writer/Lyrics by- कैफ़ी आज़मी
Singers/Performed By- येसुदास

Sad
माना हो तुम बेहद हसीं
ऐसे बुरे हम भी नहीं
देखो कभी तो प्यार से
डरते हो क्यूँ इक़रार से

तुम दो क़दम दो साथ अगर
आसान हो जाए सफ़र
छोड़ो भी ये दुनिया का ड़र
तोड़ो न दिल इन्कार से
देखो कभी तो प्यार से
डरते हो क्यो इक़रार से

Happy
माना हो तुम बेहद हसीं
ऐसे बुरे हम भी नहीं
देखो कभी तो प्यार से
डरते हो क्यूँ इक़रार से

खुलता नहीं कुछ दिलरुबा
तुम हम से ख़ुश हो या हो ख़फा
तिरछी नज़र, तीखी अदा
लगते हो क्यूँ बेज़ार से
देखो कभी तो प्यार से
डरते हो क्यूँ इक़रार से
माना हो तुम बेहद हसीं…

तुम दो क़दम दो साथ अगर
आसान हो जाए सफ़र
छोड़ो भी ये दुनिया का ड़र
तोड़ो न दिल इन्कार से
देखो कभी तो प्यार से
डरते हो क्यो इक़रार से
माना हो तुम बेहद हसीं…

 

चाँद जैसे मुखड़े पे – Chand Jaise Mukhde Pe (Yesudas, Sawan Ko Aane Do)

Movie Name /Album Name- सावन को आने दो (1979)
Music Producer/Music By- राजकमल
Lyrics Writer/Lyrics by- पुरुषोत्तम पंकज
Singers/Performed By- येसुदास

सब तिथियन का चन्द्रमा
जो देखा चाहो आज
धीरे-धीरे घूँघटा
सरकावो सरताज

चाँद जैसे मुखड़े पे बिन्दिया सितारा
चाँद जैसे मुखड़े पे बिन्दिया सितारा
नहीं भूलेगा मेरी जान
ये सितारा वो सितारा
माना तेरी नज़रों में
मैं हूँ एक आवारा हो आवारा
नहीं भूलेगा मेरी
जान ये आवारा, वो आवारा

सागर सागर मोती मिलते
परबत परबत पारस
तन मन ऐसे भीजे जैसे
बरसे महुए का रस
अरे कस्तूरी को खोजता फिरता
है ये बंजारा, हो बंजारा
नहीं भूलेगा मेरी जान
ये बंजारा वो बंजारा
चाँद जैसे मुखड़े पे बिन्दिया सितारा

कजरारे चंचल नैनों में
सूरज चाँद का डेरा
रूप के इस पावन मन्दिर में
हंसा करे बसेरा
प्यासे गीतों की गंगा का
तू ही है किनारा, हो किनारा
नहीं भूलेगा मेरी जान
ये किनारा वो किनारा
चाँद जैसे मुखड़े पे…

 

दिल के टुकड़े – Dil Ke Tukde (Yesudas, Dada)

Movie Name /Album Name- दादा (1978)
Music Producer/Music By- उषा खन्ना
Lyrics Writer/Lyrics by- कुलवंत जानी
Singers/Performed By- येसुदास

दिल के टुकड़े-टुकड़े कर के
मुस्कुराते चल दिये
जाते-जाते ये तो बता जा
हम जियेंगे किसके लिये
दिल के टुकड़े टुकड़े…

चांद भी होगा, तारे भी होंगे
दूर चमन में प्यारे भी होंगे
लेकिन हमारा दिल न लगेगा
भीगेगी जब-जब रात सुहानी
आग लगाएगी रुत मस्तानी
तू ही बता कोई कैसे जियेगा
दिल के मारों को दिल के मालिक
ठोकर लगा के चल दिये
दिल के टुकड़े…

रूठे रहेंगे आप जो हमसे
मर जाएँगे हम भी कसम से
सुन ले हाथ छुड़ाने से पहले
जान हमारी नाम पे तेरी
जाएगी इक दिन दिलबर मेरे
सोच समझ ले जाने से पहले
यूँ अगर तुम दिल की तमन्ना
को मिटा के चल दिये
दिल के टुकड़े…

 

लिख कर तेरा नाम – Likh Kar Tera Naam (Md.Rafi, Lata Mangeshkar, Laila Majnu)

Movie Name /Album Name- लैला मजनू (1976)
Music Producer/Music By- मदन मोहन
Lyrics Writer/Lyrics by- साहिर लुधियानवी
Singers/Performed By- मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर

कहना इक दीवाना तेरी
याद में आहें भरता है
लिख कर तेरा नाम ज़मीं पर
उसको सजदे करता है

चाक-गिरेबाँ, खाक़-बसर
फिरता है सूनी राहों में
सायों को लिपटाता है
और लैला लैला करता है
लिख कर तेरा नाम…

तेरी एक झलक की ख़ातिर
जान आँखों में अटकी है
जी का ऐसा हाल हुआ है
जीता है न मरता है
लिख कर तेरा नाम…

ख़ुद को भूल गया है लेकिन
तेरी याद नहीं भूला
दिल के जितने ज़ख़्म हैं
उनमें तेरा ही अक़्स उभरता है
लिख कर तेरा नाम…

कहना मेरे दीवाने से
लैला तेरी अमानत है
तेरी बाहों में दम देगी
तू जिसका दम भरता है
दिल के जितने ज़ख़्म हैं
उनमें तेरा ही अक़्स उभरता है

सदक़े जाऊँ इस क़ासिद पर
जिससे ये पैग़ाम मिला
मेरा क़ातिल मेरा मसीहा
अब भी मुझ पर मरता है

 

बरबाद-ए-मुहब्बत की दुआ – Barbaad-e-Muhabbat Ki Dua (Md.Rafi, Laila Majnu)

Movie Name /Album Name- लैला मजनू (1976)
Music Producer/Music By- मदन मोहन
Lyrics Writer/Lyrics by- साहिर लुधियानवी
Singers/Performed By- मोहम्मद रफ़ी

बरबाद-ए-मुहब्बत की दुआ साथ लिए जा
टूटा हुआ इक़रार-ए-वफ़ा साथ लिए जा
बरबाद-ए-मुहब्बत की दुआ…

इक दिल था, जो पहले ही तुझे सौंप दिया था
ये जान भी ऐ जान-ए-अदा साथ लिए जा

तपती हुई राहों से तुझे आँच न पहुँचे
दीवाने के अश्क़ों की घटा साथ लिए जा

शामिल है मेरा खून-ए-जिगर तेरी हिना में
ये कम हो तो अब खून-ए-वफ़ा साथ लिए जा

हम जुर्म-ए-मुहब्बत की सज़ा पाएँगे तन्हा
जो तुझसे हुई हो वो ख़ता साथ लिए जा
टूटा हुआ इक़रार-ए-वफ़ा…

 

दर्द अपनाता है – Dard Apnaata Hai (Jagjit Singh, Silsilay)

Movie Name /Album Name- सिलसिले (1970)
Music Producer/Music By- जगजीत सिंह
Lyrics Writer/Lyrics by- जावेद अख़्तर
Singers/Performed By- जगजीत सिंह

दर्द अपनाता है पराये कौन
कौन सुनता है और सुनाए कौन
दर्द अपनाता है…

कौन दोहराए पुरानी बातें
ग़म अभी सोया है, जगाए कौन

वो जो अपने हैं, क्या वो अपने हैं
कौन दुःख झेले, आज़माए कौन

अब सुकूँ है तो भूलने में है
लेकिन उस शख़्स को भुलाए कौन

आज फिर दिल है कुछ उदास-उदास
देखिये आज याद आए कौन
दर्द अपनाता है…

जब तक रहे तन में जिया – Jab Tak Rahe Tan Mein Jiya (Asha Bhosle, Samadhi)

Movie Name /Album Name- समाधि (1972)
Music Producer/Music By- आर.डी.बर्मन
Lyrics Writer/Lyrics by- मजरूह सुल्तानपुरी
Singers/Performed By- आशा भोंसले

जब तक रहे तन में जिया
वादा रहा, ओ साथिया
हम तुम्हारे लिये तुम हमारे लिये
हम तुम्हारे लिये तुम हमारे लिये

धूप लगेगी जब जब तुमको सजना
ओ डारूँगी मैं आँचल की छैयाँ
साँझ पड़े जब थक जाओगे बलमा
ओ वारूँगी मैं गोरी गोरी बैयाँ
डोलूँगी बन के चाँदनी मैं तेरे अँगना
जब तक रहे तन में जिया…

सारी जनम को अब तो अपने तन पे हाँ
ओ ओढ़ी चुनरिया मैंने साजन की
खिली रहे मुस्कान तेरी फिर चाहे
ओ लुट जाये बगिया मेरे जीवन की
मैं जीवन छोड़ दूँ, छोड़ूँ न, मैं तेरी गलियाँ
जब तक रहे तन में जिया…

 

जब तक रहे तन में जिया – Jab Tak Rahe Tan Mein Jiya (Asha Bhosle, Samadhi)

Movie Name /Album Name- समाधि (1972)
Music Producer/Music By- आर.डी.बर्मन
Lyrics Writer/Lyrics by- मजरूह सुल्तानपुरी
Singers/Performed By- आशा भोंसले

जब तक रहे तन में जिया
वादा रहा, ओ साथिया
हम तुम्हारे लिये तुम हमारे लिये
हम तुम्हारे लिये तुम हमारे लिये

धूप लगेगी जब जब तुमको सजना
ओ डारूँगी मैं आँचल की छैयाँ
साँझ पड़े जब थक जाओगे बलमा
ओ वारूँगी मैं गोरी गोरी बैयाँ
डोलूँगी बन के चाँदनी मैं तेरे अँगना
जब तक रहे तन में जिया…

सारी जनम को अब तो अपने तन पे हाँ
ओ ओढ़ी चुनरिया मैंने साजन की
खिली रहे मुस्कान तेरी फिर चाहे
ओ लुट जाये बगिया मेरे जीवन की
मैं जीवन छोड़ दूँ, छोड़ूँ न, मैं तेरी गलियाँ
जब तक रहे तन में जिया…

 

 

सरकती जाये है – Sarakti Jaye Hai (Jagjit Singh, Kishore Kumar, Lata Mangeshkar)

Movie Name /Album Name- द अनफर्गेटेबल्स (1977), दीदार-ए-यार (1982)
Music Producer/Music By- जगजीत सिंह, लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics Writer/Lyrics by- अमीर मीनाई
Singers/Performed By- जगजीत सिंह, किशोर कुमार, लता मंगेशकर

सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब
आहिस्ता आहिस्ता
निकलता आ रहा है आफ़ताब
आहिस्ता आहिस्ता
सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब

जवाँ होने लगे जब वो
तो हमसे कर लिया पर्दा
हया यकलख़्त आई और शबाब
आहिस्ता आहिस्ता
सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब

शब-ए-फ़ुर्क़त का जागा हूँ
फ़रिश्तों अब तो सोने दो
कभी फ़ुर्सत में कर लेना हिसाब
आहिस्ता आहिस्ता
सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब

सवाल-ए-वस्ल पर उनको
अदू का ख़ौफ़ है इतना
दबे होंठों से देते हैं जवाब
आहिस्ता आहिस्ता
सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब

**हमारे और तुम्हारे प्यार में
बस फ़र्क़ है इतना
इधर तो जल्दी-जल्दी है
उधर आहिस्ता आहिस्ता
सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब

वो बेदर्दी से सर काटे *मेरा /**अमीर
और मैं कहूँ उनसे
हुज़ूर आहिस्ता आहिस्ता
जनाब आहिस्ता आहिस्ता
सरकती जाये है रुख़ से नक़ाब…

* केवल “दीदार-ए-यार” में शामिल
** केवल “द अनफर्गेटेबल्स” में शामिल

 

देखा है ज़िन्दगी को – Dekha Hai Zindagi Ko (Kishor Kumar, Ek Mahal Ho Sapnon Ka)

Movie Name /Album Name- एक महल हो सपनों का (1975)
Music Producer/Music By- रवि
Lyrics Writer/Lyrics by- साहिर लुधियानवी
Singers/Performed By- किशोर कुमार

देखा है ज़िन्दगी को, कुछ इतना करीब से
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अजीब से
देखा है ज़िन्दगी को…

कहने को दिल की बात, जिन्हें ढूँढते थे हम
महफ़िल में आ गए हैं वो अपने नसीब से
देखा है ज़िन्दगी को…

नीलाम हो रहा था किसी नाज़नीं का प्यार
क़ीमत नहीं चुकाई गई एक गरीब से
देखा है ज़िन्दगी को…

तेरी वफ़ा की लाश पे, ला मैं ही डाल दूँ
रेशम का ये कफ़न, जो मिला है रक़ीब से
देखा है ज़िन्दगी को…

कसमें हम अपनी – Kasmein Hum Apni (Anwar Hussain, Mere Gharib Nawaz)

Movie Name /Album Name- मेरे ग़रीब नवाज़ (1973)
Music Producer/Music By- कमल राजस्थानी
Lyrics Writer/Lyrics by- महबूब सरवर
Singers/Performed By- अनवर हुसैन

कसमें हम अपनी जान की खाए चले गए
फिर भी वो ऐतबार न लाए, चले गए
कसमें हम अपनी…

कह कर गए थे वो, के न आएँगे अब कभी
लेकिन ख़याल बन के वो आए चले गए
फिर भी वो…

रुसवाइयों के डर से न दामन भीगो सके
पलकों में आँसुओं को छुपाए चले गए
फिर भी वो…

‘अन्वर’, सुजूद-ए-शौक़ की मत पूछ इंतेहा
हर-हर कदम पे सर को झुकाये चले गए
फिर भी वो…

 

बेताब दिल की – Betaab Dil Ki (Lata Mangeshkar, Hanste Zakhm)

Movie Name /Album Name- हँसते ज़ख्म (1973)
Music Producer/Music By- मदन मोहन
Lyrics Writer/Lyrics by- कैफ़ी आज़मी
Singers/Performed By- लता मंगेशकर

बेताब दिल की तमन्ना यही है
तुम्हें चाहेंगे, तुम्हें पूजेंगे
तुम्हें अपना ख़ुदा बनाएँगे
बेताब दिल की तमन्ना यही है

सूने सूने ख़्वाबों में
जब तक तुम ना आए थे
ख़ुशियाँ थी सब औरों की
ग़म भी सारे पराये थे
अपने से भी छुपाई थी
धड़कन अपने सीनेे की
हमको जीना पड़ता था
ख़्वाहिश कब थी जीने की?
अब जो आ के तुमने
हमें जीना सिखा दिया है
चलो, दुनिया नई बसाएँगे
बेताब दिल की तमन्ना यही है

भीगी-भीगी पलकों पर
सपने कितने सजाये हैं
दिल में जितना अंधेरा था
उतनेे उजाले आए हैं
तुम भी हमको जगाना ना
बाँहों में जो सो जाए
जैसे ख़ुश्बू फूलों में
तुममें यूँ ही खो जाए
पल भर किसी जनम में
कभी छुटे ना साथ अपना
तुम्हे ऐसे गले लगाएँगे
बेताब दिल की तमन्ना यही है

वादे भी हैं, क़समें भी
बीता वक़्त इशारों का
कैसे कैसे अरमाँ है
मेला जैसे बहारों का
सारा गुलशन दे डाला
कलियाँ और खिलाओ ना
हँसते-हँसते रो दें हम
इतना भी तो हँसाओ ना
दिल में तुम ही बसे हो
रहा आँचल, वो भर चुका है
कहाँ इतनी ख़ुशी छुपाएँगे
बेताब दिल की तमन्ना यही है

 

बेशक़ मंदिर-मस्जिद तोड़ो – Beshaq Mandir-Masjid Todo (Narendra Chanchal, Bobby)

Movie Name /Album Name- बॉबी (1973)
Music Producer/Music By- लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
Lyrics Writer/Lyrics by- आनंद बक्षी
Singers/Performed By- नरेंद्र चंचल

बेशक़ मंदिर-मस्जिद ढा दे
बुल्ले शाह ये कहता

बेशक़ मंदिर-मस्जिद तोड़ो
बुल्ले शाह ये कहता
पर प्यार भरा दिल कभी न तोड़ो
इस दिल में दिलबर रहता
जिस पलड़े में तुले मुहब्बत
उस में चांदी नहीं तोलना
तौबा मेरी, न ढोलना, मैं नी बोलना
ओ नई बोलना जा
मैं नई बोलना जा
ओ मैं नई बोलना जा
ढोलना, मैं नी बोलना
तौबा मेरी, न ढोलना, मैं नी बोलना

आग ते इश्क़ बराबर दोनों
पर पानी आग बुझाए
आशिक़ के जब आँसू निकले
और अगन लग जाए
तेरे सामने बैठ के रोना
दिल का दुखड़ा नई खोलना
ढोलना, मैं नई बोलना
ओ नई बोलना…

झूम बराबर झूम शराबी- Jhoom Baraabar Jhoom Sharaabi (Aziz Nazan, 5 Rifles)

Movie Name /Album Name- 5 राइफल्स (1974)
Music Producer/Music By- अज़ीज़ नाज़ाँ
Lyrics Writer/Lyrics by- नाज़ शोलापुरी
Singers/Performed By- अज़ीज़ नाज़ाँ

ना हरम में, ना सुकूँ मिलता है बुत-ख़ाने में
चैन मिलता है तो साक़ी तेरे मैख़ाने में

झूम बराबर झूम शराबी, झूम बराबर झूम
काली घटा है, मस्त फ़ज़ा है
जाम उठाकर घूम घूम घूम
झूम बराबर…

आज अँगूर की बेटी से मुहब्बत कर ले
शेख़ साहब की नसीहत से बग़ावत कर ले
इसकी बेटी ने उठा रखी है सर पर दुनिया
ये तो अच्छा हुआ अँगूर को बेटा ना हुआ
कम-से-कम सूरत-ए-साक़ी का नज़ारा कर ले
आ के मैख़ाने में जीने का सहारा कर ले
आँख मिलते ही जवानी का मज़ा आयेगा
तुझको अँगूर के पानी का मज़ा आयेगा
हर नज़र अपनी ब-सद शौक़ गुलाबी कर दे
इतनी पी ले के ज़माने को शराबी कर दे
जाम जब सामने आए तो मुकरना कैसा
बात जब पीने की आ जाए तो डरना कैसा
धूम मची है, मैख़ाने में
तू भी मचा ले धूम धूम धूम
झूम बराबर झूम शराबी…

इसके पीने से तबियत में रवानी आये
इसको बूढ़ा भी जो पी ले तो जवानी आये
पीने वाले तुझे आ जाएगा पीने का मज़ा
इस के हर घूँट में पोशीदा है जीने का मज़ा
बात तो जब है के तू मय का परस्तार बने
तू नज़र डाल दे जिस पर वो ही मैख़्वार बने
मौसम-ए-गुल में तो पीने का मज़ा आता है
पीने वालों ही को जीने का मज़ा आता है
जाम उठा ले, मुँह से लगा ले
मुँह से लगाकर चूम चूम चूम
झूम बराबर झूम शराबी…

जो भी आता है यहाँ पी के मचल जाता है
जब नज़र साक़ी की पड़ती है सम्भल जाता है
आ, इधर झूम के साक़ी का ले के नाम उठा
देख वो अब्र उठा, तू भी ज़रा जाम उठा
इस क़दर पी ले के रग-रग में सुरूर आ जाये
कसरत-ए-मय से तेरे चेहरे पे नूर आ जाये
इसके हर क़तरे में नाज़ाँ है निहाँ दरियादिली
इसके पीने से अता होती है एक ज़िन्दादिली
शान से पी ले, शान से जी ले
घूम नशे में घूम घूम घूम
झूम बराबर झूम शराबी…

 

ये दिल और उनकी – Ye Dil Aur Unki (Lata Mangeshkar, Prem Parbat)

Movie Name /Album Name- प्रेम परबत (1973)
Music Producer/Music By- जयदेव
Lyrics Writer/Lyrics by- जाँ निसार अख़्तर
Singers/Performed By- लता मंगेशकर

ये दिल और उनकी निगाहों के साये
मुझे घेर लेते हैं बाँहों के साये

पहाड़ों को चंचल किरन चूमती है
हवा हर नदी का बदन चूमती है
यहाँ से वहाँ तक, हैं चाहों के साये
ये दिल और…

लिपटते ये पेड़ों से बादल घनेरे
ये पल-पल उजाले, ये पल-पल अंधेरे
बहुत ठंडे-ठंडे, हैं राहों के साये
ये दिल और…

धड़कते हैं दिल कितनी आज़ादियों से
बहुत मिलते-जुलते हैं इन वादियों से
मुहब्बत की रंगीं, पनाहों के साये
ये दिल और…

Leave a Reply