फ़ितरत पे सवाल…-ग़ज़लें-मोहनजीत कुकरेजा -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mohanjeet Kukreja Ghazals

फ़ितरत पे सवाल…-ग़ज़लें-मोहनजीत कुकरेजा -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mohanjeet Kukreja Ghazals

मुरव्वत से पेश आऊँगा ताकि कोई सवाल ना हो…
मिल रहें हैं जो इख़्लास से, दुश्मनों की चाल ना हो !

बे-शक चल रही हो वहाँ मेरे ही क़त्ल की साज़िश,
कोई मोहब्बत से बुलाए, न जाने की मजाल ना हो !

एतबार अगर दुश्वारियों का बाइस बनता है तो बने..
वो ज़िन्दगी क्या जीना जिसमें कोई कमाल ना हो !

जान की परवाह किसे है, बस रिश्ते दिल के बने रहें,
किसी पर भी भरोसा न रहे इतना बुरा हाल ना हो !

बाक़ी सब कुछ हासिल है, एक तमन्ना अभी बची है,
मेरे बाद भी मेरी फ़ितरत पे कभी कोई सवाल ना हो !

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply