हाय न आई-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

हाय न आई-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

 

आज भी आई
कल भी आई
रेल बराबर सब दिन आई!
लेकिन दिल्ली से आजादी
अब तक अब तक हाय न आई,
हाय न आई!!

चिट्ठी आई
पत्री आई
डाक बराबर सब दिन आई
लेकिन दिल्ली से आजादी
अब तक अब तक हाय न आई,
हाय न आई!!

आफत ही आफत सब आई
लेकिन दिल्ली से आजादी
अब तक अब तक हाय न आई,
हाय न आई!!

रचनाकाल: १५-०९-१९४६

 

Leave a Reply