हाजी-मुरात दी लोरी- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov) 

हाजी-मुरात दी लोरी- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov)

1 मुक्खड़े ‘ते मुस्कान ल्या के,

मुक्खड़े ‘ते मुस्कान ल्या के,
सुन, पुत्तरा मैं गीत सुणावां ।
इक सूरमे दा इह किस्सा,
सूरे पुत्तर ताईं सुणावां ।

मान बड़े नाल खड़ग आपणी,
लक्क दे नाल उह बन्न्हदा सी ।
सरपट घोड़े उते उच्छल,
वस्स विच उहनूं करदा सी ।

तेज़ पहाड़ी नदियां वांगूं,
हद्दां लंघदा जांदा सी ।
उच्चियां परबत दियां कतारां,
नाल खड़ग दे वढ्ढदा जांदा सी ।

सदी पुराने शाह बलूत नूं,
इको हत्थ नाल उह मोड़े ।
उहो जेहा ही बणें सूरमा,
संग सूरियां जा जोड़े ।

2 (इह गीत उस समें दा है जदों उह
वैरी नाल जा रल्या सी)

(इह गीत उस समें दा है जदों उह
वैरी नाल जा रल्या सी)

तूं पहाड़ां उत्तों, खड्डां विच छालां मारियां,
घबराहट कदे वी छोही, तेरे मन दे ताईं ना ।
पर जिन्नां नीवां जा के, हुन तूं डिग ग्या एं,
उथों कदे वी मुड़ के, घर नूं वापस आईं ना ।

तेरे पहाड़ां उते, जद जद वी हमले होए,
राह तेरा रोक ना सक्के, काले शाह हनेरे,
तूं बणिऐं जा के आपे, दुश्मन दा शिकार,
कदे ना मुड़ के आईं, एधर घर नूं मेरे ।

मैं मां हां, मेरे दिन वी, हुन तों होए काले,
कड़वाहट, सुन्नेपन दे फैले संघने साए,
फौलादी पंज्यां विचों, फांसी फन्दियां विचों,
कदे ना कोई निकले, वापस घर नूं आए ।

ज़ार, शामील दे ताईं, नफ़रत जे कोई करदै,
समझ आ जावे इह गल्ल, हर इक नूं सभनां ताईं,
पर तूं निरादर कीतै, एहनां परबतां दा,
हुन कदे वी मुड़ के, तूं वापस घर ना आईं ।

3 (इह गीत उस वेले दा है जदों उह दुश्मणां
नूं छड्ड के आउन वेले मारिया ग्या)

(इह गीत उस वेले दा है जदों उह दुश्मणां
नूं छड्ड के आउन वेले मारिया ग्या)

चल्ले खड़ग दे वार भरपूर उहदे,
सिर धड़ ते नहीं रिहा उहदे,
कोई जंग दा भेड़ जां जुगत बन्दी,
हुन्दी कदे ना सी बिनां उहदे ।

इह फज़ूल ए सड़क दे किसे कंढे,
दफन सिर तों बिनां ए धड़ उहदा ।
किल्यां, जंगां विच हत्थ ते पए मोढे,
किवें छड्डांगे असीं भी लड़ उहदा ।

पुच्छो खंजर ते आपनी खड़ग ताईं,
भला हाजी हुन किते रिहा नहींयों ?
भला मुशक बारूद दी परबतां ‘चों,
कितों आवे जां उड्डदा धूंआं नहींयों ?

वांग गरुड़ दे उड्ड के चोटियां ते,
उहदा नांय ग्या अंत नूं धुन्दलायआ ।
वल सभ शमशीरां कर देन सिद्धे,
लाह देणगियां धब्बा जो खुद लायआ ।

Leave a Reply