हाजी-मुरात दा सिर- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov) 

हाजी-मुरात दा सिर- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov)

वढ्ढ्या प्या सिर वेख रिहा हां
लहू दियां नदियां वहन पईआं
वढ्ढो, मारो दा शोर मच्चे
किवें लोकी सोचन चैन दियां ।

तिक्खियां तेज़-धार तलवारां
उच्चियां-उच्चियां लहरावण
राहां टेढियां औझड़ उते
शेर-मुरीद गज्जदे जावन ।

लहू-गड़ुच्च सिर तों इह पुच्छ्या-
” किरपा कर के दस तां एह
सूरम्यां, सैं ग्या किस तर्हां
नाल तूं सत्त बेगान्यां दे ?”

” रक्खां भेद ना कदे लुका के
हाजी-मुरात दा सिर हां मैं
भटक्या सां तां वढ्ढ्या ग्या हां
एना दस रिहा हां मैं ।

राह गलत ते चल्ल्या सां मैं
मारिया होया घुमंड दा सां…”
भटक्या होया सिर देख रिहा सां
वढ्ढ्या प्या सी जो विचारा ।

पुरख पहाड़ां विच जो जंमदे
बेशक दूर दुराडे जाईए
होईए ज़िन्दा जां फिर मुर्दा
आखर मुड़ के एथे आईए ।

Leave a Reply