हर सम्त परीशाँ तेरी आमद के क़रीने-दस्ते-तहे-संग -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

हर सम्त परीशाँ तेरी आमद के क़रीने-दस्ते-तहे-संग -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

हर सम्त परीशाँ तेरी आमद के क़रीने
धोखे दिए क्या-क्या हमें बादे-सहरी ने

हर मंज़िल-ए-ग़ुरबत पे गुमाँ होता है घर का
बहलाया है हर गाम बहुत दर बदरी ने

थे बज़्म में सब दूदे-सरे-बज़्म से शादाँ
बेकार जलाया हमें रौशन नज़री ने

मयख़ाने में आजिज़ हुए आज़ुर्दादिली से
मस्जिद का न रक्खा हमें आशुफ़्ता-सरी ने

यह जामा-ए-सद-चाक बदल लेने में क्या था
मोहलत ही न दी ‘फ़ैज़’ कभी बख़िया गरी ने

Leave a Reply