हर नाला तिरे दर्द से अब और ही कुछ है-कविता -फ़िराक़ गोरखपुरी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Firaq Gorakhpuri

हर नाला तिरे दर्द से अब और ही कुछ है-कविता -फ़िराक़ गोरखपुरी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Firaq Gorakhpuri

हर नाला तिरे दर्द से अब और ही कुछ है
हर नग़्मा सर-ए-बज़्म-ए-तरब और ही कुछ है

मज़हब की ख़राबी है न अख़्लाक़ की पस्ती
दुनिया के मसाइब का सबब और ही कुछ है

ये काम न ले नाला-ओ-फ़र्याद-ओ-फ़ुग़ां से
अफ़्लाक उलट देने का ढब और ही कुछ है

दुनिया को जगा दे जो अदम को भी सुला दे
सुनते हैं कि वो रोज़ वो शब और ही कुछ है

अरबाब-ए-वफ़ा जान भी देने को हैं तयार
हस्ती का मगर हुस्न-ए-तलब और ही कुछ है

क्या हुस्न के अंदाज़-ए-तग़ाफ़ुल की शिकायत
पैमान-ए-वफ़ा इश्क़ का जब और ही कुछ है

आँखों ने ‘फ़िराक़’ आज न पूछो जो दिखाया
जो कुछ नज़र आता है वो सब और ही कुछ है

Leave a Reply