हम रहे पर नहीं रहे आबाद-शायद-ग़ज़लें-जौन एलिया -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaun Elia 

हम रहे पर नहीं रहे आबाद-शायद-ग़ज़लें-जौन एलिया -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaun Elia

हम रहे पर नहीं रहे आबाद
याद के घर नहीं रहे आबाद

कितनी आँखें हुईं हलाक-ए-नज़र
कितने मंज़र नहीं रहे आबाद

हम कि ऐ दिल-सुख़न थे सर-ता-पा
हम लबों पर नहीं रहे आबाद

शहर-ए-दिल में अजब मोहल्ले थे
उन में अक्सर नहीं रहे आबाद

जाने क्या वाक़िआ’ हुआ क्यूँ लोग
अपने अंदर नहीं रहे आबाद

Leave a Reply