हमारे अफसर आदमखोर-कविताएँ-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

हमारे अफसर आदमखोर-कविताएँ-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

टैक्सों की भरमार-
हमारी करती है सरकार!
जीवन का अधिकार-
हमारी हरती है सरकार!!

होती है कम आय,
हमारा घटता है व्यवसाय!
होता है अन्याय,
हमारा लुटता है समुदाय!!

करते हैं व्यभिचार-
हमारे अफसर आदमखोर!
हम तो हैं लाचार,
हमारे अफसर हैं झकझोर!!

गायें कैसे गान?
हमारी दुर्बल है मुसकान!
जीवन है अपमान,
हमारी निर्बल है संतान!!

रचनाकाल: १३-१०-१९५४

 

Leave a Reply