हमने दुनिया में आके क्या देखा-बहादुर शाह ज़फ़र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bahadur Shah Zafar

हमने दुनिया में आके क्या देखा-बहादुर शाह ज़फ़र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bahadur Shah Zafar

हमने दुनिया में आके क्या देखा
देखा जो कुछ सो ख़्वाब-सा देखा

है तो इन्सान ख़ाक का पुतला
लेकिन पानी का बुल-बुला देखा

ख़ूब देखा जहाँ के ख़ूबाँ को
एक तुझ सा न दूसरा देखा

एक दम पर हवा न बाँध हबाब
दम को दम भर में याँ हवा देखा

न हुये तेरी ख़ाक-ए-पा हम ने
ख़ाक में आप को मिला देखा
अब न दीजे “ज़फ़र” किसी को दिल
कि जिसे देखा बेवफ़ा देखा

Leave a Reply