हथीं छल्ले बाहीं चूड़ियां-पंजाबी काफ़ियाँ शाह शरफ़-शाह शरफ़ -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shah Sharaf

हथीं छल्ले बाहीं चूड़ियां-पंजाबी काफ़ियाँ शाह शरफ़-शाह शरफ़ -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shah Sharaf

हथीं छल्ले बाहीं चूड़ियां,
गलि हार हमेलां जूड़ियां,
सहु मिले तां पाउंदियां पूरियां ।१।

नैन भिन्नड़े कजल सांवरे,
सहु मिलन नूं खरे उतावरे ।१।रहाउ।

रातीं होईआं नी अंधेरियां,
चउकीदारां ने गलियां घेरियां,
मैं बाझ दंमां बन्दी तेरियां ।२।

मैं बाबल दे घरि भोलड़ी,
गल सोहे ऊदी चोलरी,
सहु मिले तां वंञा मैं घोलरी ।३।

मैं बाबलि दे घरि नंढड़ी,
गलि सोहे सोइने कंढड़ी,
सहु मिले तां थीवां ठंडड़ी ।४।

जे तूं चल्यों चाकरी,
मैं होईआं जोबनि मातड़ी,
सहु मिले तां थीवां मैं साकरी ।५।

मेरे गलि विचि अलकां खुल्हियां,
मानो प्रेम सुराहियां डुल्हियां,
दुइ नागनियां घरि भुलियां ।६।

आवहु जे कही आवणा,
असां दही कटोरे नावना,
शेख़ शरफ़ असां सहु रीझावना ।७।
(राग धनासरी)

Leave a Reply