हकीम अल्ल्हा यार खां जोगी नूं-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

हकीम अल्ल्हा यार खां जोगी नूं-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

वाह ओए जोगिया ! आपने नां ताईं,
हर पास्यों ठीक ठहराया तूं ।
‘अल्ल्हा यार’ सी अल्ल्हा दा यार बण्यों,
भेद दूई-दवैत मिटाया तूं ।

तेरी रूह नूं कोई ना फ़रक लग्गा,
हज़रत साहब ‘ते गुरू गोबिन्द दे विच्च ।
पूजन लग्ग्यां तूं ना फ़रक पाया,
‘चमकौर’ ‘करबला’ अते ‘सरहन्द’ दे विच्च ।

हज़रत अली दे हसन-हुसैन दा सी,
तेरी नज़र विच्च मरतबा बहुत उच्चा ।
अजीत-जुझार, ज़ोरावर-फ़तह दा वी,
तूं समझ्या ओनां ही नां सुच्चा ।

वड्डे पापियां दी कतार अन्दर,
खड़े कीते तूं ज़्याद यज़ीद दोवें ।
उन्हां नाल ही तूं मिला दित्ते,
सुच्चा नन्द ते सूबा वज़ीद दोवें ।

तेरी कलम ने उह तसवीर खिच्ची,
साहवें अक्खां दे जंग घमसान होवे ।
सुत्ते सिंघां नूं तक्क के गुरू सोचण,
जिवें पुत्तां तों पिता कुरबान होवे ।

हर इक्क शियर है पुर तासीर तेरा,
पत्थर दिल वी मोम बणाई जावे ।
दरद किन्ना वी भावें महसूस होवे,
मल्ल्हम शरधा दी ओस ते लाई जावे ।

#2

काज़ी आख्या, “जोगिया कर तौबा,
कुफ़र छड्ड ईमान दी गल्ल कर तूं ।
तैनूं बहशतां विच वासा मिल जाणा,
‘केरां मूंह मसीत दे वल्ल कर तूं ।

काहतों लिख लिख काले करें काग़ज़,
ऐवें काफ़रां दे सोहले गाई जांदा ।
बहशत उडीकदे पए ने मोमनां नूं,
क्युं तूं दोज़ख़ां वल्ल नूं जाई जांदा ।”

“काज़ी ! कुफ़र की ए अते ईमान की ए,
इहदा तूं कोई फ़रक नहीं कर सकदा ।
सागर वहदत दे टुभ्भियां मैं लावां,
तेरे जेहा अणजान नहीं तर सकदा ।

पल्ला सच्च दा फड़्या मैं सच्च लिख्या,
तेरे वरग्यां नूं कुफ़र लग्गदा ए ।
मेरे अन्दर गुरू दे नां वाला,
सागर वेख किन्नां सुहना वगदा ए ।

मैं जदों वी विच्च ध्यान तक्कां,
अंग संग ही जापन हमेश सतिगुर ।
अड्ड बाहां गलवक्कड़ी पान लई,
मैनूं उडीकदे पए दसमेश सतिगुर ।”

Leave a Reply