सूर है न चन्द है-गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gayaprasad Shukla Sanehi

सूर है न चन्द है-गयाप्रसाद शुक्ल ‘सनेही’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gayaprasad Shukla Sanehi

फ़ाटत ही खम्भ के अचम्भि रहे तीनों लोक,
शंकित वरुण है पवन-गति मन्द है ।
घोर गर्जना के झट झपटि झड़ाका जाय,
देहली पे दाव्यो दुष्ट दानव दुचन्द है ।।
पूर्यो वर कीन्हौ है अधूरो न रहन पायो,
तोरी देव वन्दि और फार्यो भक्त फन्द है ।
नर है न नाहर है, घर है न बाहर है,
दिन है न रात है, न सूर है न चन्द है ।।

This Post Has One Comment

Leave a Reply