सूरज का गोला-बाल कविता-भवानी प्रसाद मिश्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bhawani Prasad Mishra

सूरज का गोला-बाल कविता-भवानी प्रसाद मिश्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bhawani Prasad Mishra

 

सूरज का गोला,
इसके पहले ही कि निकलता,
चुपके से बोला,हमसे – तुमसे इससे – उससे
कितनी चीजों से,
चिडियों से पत्तों से ,
फूलो – फल से, बीजों से-
“मेरे साथ – साथ सब निकलो
घने अंधेरे से
कब जागोगे,अगर न जागे , मेरे टेरे से ?”
आगे बढकर आसमान ने
अपना पट खोला,
इसके पहले ही कि निकलता

सूरज का गोला
फिर तो जाने कितनी बातें हुईं,
कौन गिन सके इतनी बातें हुईं ,
पंछी चहके कलियां चटकीं ,
डाल – डाल चमगादड लटकीं
गांव – गली में शोर मच गया ,
जंगल – जंगल मोर नच गया .
जितनी फैली खुशियां ,
उससे किरनें ज्यादा फैलीं,
ज्यादा रंग घोला .
और उभर कर ऊपर आया
सूरज का गोला ,
सबने उसकी आगवानी में
अपना पर खोला

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply