सूत की माला -हरिवंशराय बच्चन -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita By Harivansh Rai Bachchan Part 1

सूत की माला -हरिवंशराय बच्चन -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita By Harivansh Rai Bachchan Part 1

नत्‍थू ख़ैरे ने गांधी का कर अंत दिया

नत्‍थू ख़ैरे ने गांधी का कर अंत दिया
क्‍या कहा, सिंह को शिशु मेंढक ने लिल लिया!
धिक्‍कार काल, भगवान विष्‍णु के वाहन को
सहसा लपेटने
में समर्थ हो
गया लबा!

पड़ गया सूर्य क्‍या ठंडा हिम के पाले से,
क्‍या बैठ गया गिरि मेरु तूल के गाले से!
प्रभु पाहि देश, प्रभु त्राहि जाति, सुर के तन को
अपने मुँह में
लघु नरक कीट ने
लिया दबा!

यह जितना ही मर्मांतक उतना ही सच्‍चा,
शांतं पापं, जो बिना दाँत का बच्‍चा,
करुणा ममता-सी मूर्तिमान मा को कच्‍चा
देखते देखते
सब दुनिया के
गया चबा!

आओ बापू के अंतिम दर्शन कर जाओ

आओ बापू के अंतिम दर्शन कर जाओ,
चरणों में श्रद्धांजलियाँ अर्पण कर जाओ,
यह रात आखिरी उनके भौतिक जीवन की,
कल उसे करेंगी
भस्‍म चिता की
ज्‍वालाएँ।

डांडी के यारत्रा करने वाले चरण यही,
नोआखाली के संतप्‍तों की शरण यही,
छू इनको ही क्षिति मुक्‍त हुई चंपारन की,
इनकी चापों ने
पापों के दल
दहलाए।
यह उदर देश की भुख जानने वाला था,
जन-दुख-संकट ही इसका ही नित्‍य नेवाला था,
इसने पीड़ा बहु बार सही अनशन प्रण की
आघात गोलियाँ
के ओढ़े
बाएँ-दाएँ।

यह छाती परिचित थी भारत की धड़कन से,
यह छाती विचलित थी भारत की तड़पन से,
यह तानी जहाँ, बैठी हिम्‍मत गोले-गन की
अचरज ही है
पिस्‍तौल इसे जो
बिठलाए।

इन आँखों को था बुरा देखना नहीं सहन,
जो नहीं बुरा कुछ सुनते थे ये वही श्रवण,
मुख यही कि जिससे कभी न निकला बुरा वचन,
यह बंद-मूक
जग छलछुद्रों से
उकताए।

यह देखो बापू की आजानु भुजाएँ हैं,
उखड़े इनसे गोराशाही के पाए हैं,
लाखों इनकी रक्षा-छाया-में आए हैं,
ये हा‍थ सबल
निज रक्षा में
क्‍यों सकुचाए।

यह बापू की गर्वीली, ऊँची पेशानी,
बस एक हिमालय की चोटी इनकी सनी,
इससे ही भारत ने अपनी भावी जानी,
जिसने इनको वध करने की मन में ठानी
उसने भारत की किस्‍मत में फेरा पानी;
इस देश-जाती के हुए विधाता
ही बाएँ।

यह कौन चाहता है बापूजी की काया

यह कौन चाहता है बापूजी की काया
कर शीशे की ताबूत-बद्ध रख ली जाए,
जैसे रक्‍खी है लाश मास्‍को में अब तक
लेनिन की, रशिया
के प्रसिद्धतम
नेता की।

हम बुत-परस्‍त मशहूर भूमि के ऊपर हैं,
शव-मोह मगर हमने कब ऐसा दिखलाया,
क्‍या राम, कृष्‍ण, गौतम, अकबर की
हम, अगर चाहते,
लाश नही रख
सकते थे।

आत्‍मा के अजर-अमरता के हम विश्‍वासी,
काया को हमने जीर्ण वसन बस माना है,
इस महामोह की बेला में भी क्‍या हमको
वाजीब अपनी
गीता का ज्ञान
भुलना है।

क्‍या आत्‍मा को धरती माता का ऋण है,
बापू को अपना अंतिम कर्ज चुकाने दो,
वे जाति, देश, जग, मानवता से उऋण हुए,
उन पर मृत मिट्टी
का ऋण मत रह जाने दो।

रक्षा करने की वस्‍तु नहीं है उनकी काया,
उनकी विचार संचित करने की चीज़ें हैं,
उनको भी मत जिल्‍दों में करके बंद धरो,
उनके जन-जन
मन-मन, कण-कण
में बिखरा जाओ।

अब अर्द्धरात्रि है और अर्द्धजल बेला

अब अर्द्धरात्रि है और अर्द्धजल बेला,
अब स्‍नान करेगा यह जोधा अलबेला,
लेकिन इसको छेड़ते हुए डर लगता,
यह बहुत अधिक
थककर धरती पर
सोता।

क्‍या लाए हो जमुना का निर्मल पानी,
परिपाटी के भी होते हैं कुछ मानी,
लेकिन इसकी क्‍या इसको आवश्‍यक्‍ता,
वीरों का अंतिम
स्‍नान रक्‍त से
होता।

मत यह लोहू से भीगे वस्‍त्र उतारो
मत मर्द सिपाही का श्रृंगार बिगाड़ो,
इस गर्द-खून पर चोवा-चंदन वारो
मानव-पीड़ा प्रतिबिंबित ऐसों का मुँह,
भगवान स्‍वयं
अपने हाथों से
धोता।

Leave a Reply