सुब्ह से शाम तलक-ग़ज़लें-ख़याल लद्दाखी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Khayal Ladakhi

सुब्ह से शाम तलक-ग़ज़लें-ख़याल लद्दाखी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Khayal Ladakhi

सुब्ह से शाम तलक
अहद ए नाकाम तलक

खीँच लाती है हया
दैर ओ अहराम तलक

पुर इबारत न हुई
हर्फ़ ए इलज़ाम तलक

ज़ीस्त कटती है कटे
एक अनजाम तलक

एक धोका है ख़ुशी
दर्द ओ आलाम तलक

कुछ किए से न बने
गाह ए अनजाम तलक

जी को जीने का ग़रज़
बरकत ए जाम तलक

मैं फ़क़त एक घड़ी
वह कि अय्याम तलक

ज़िनदगी बोझ कोई
दाम ए आराम तलक

मुनजमिद दर्द मिरे
मेरे इनदाम तलक

कोई इमकान ख़याल
ज़ब्त ए अनजाम तलक

(Taj Rasul Tahir Sahib ki zameen par)

Leave a Reply