सुबह से शाम तक-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

सुबह से शाम तक-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

 

सुबह से शाम तक
पानी की
प्रलम्ब प्रवाहित देह
प्रकाश-ही-प्रकाश पीती है
न रात में सोती-
न रोती है,
उच्छल तरंगित होती है;
न सूखी,
न रीती,
जीवंत जीती है।

केन है केन!
प्रवाहित प्यार की-
मेरी नदी केन,
मेरे आत्म-प्रसार की
मेरी नदी केन!

रचनाकाल: २२-१२-१९९०

 

Leave a Reply