सुबह की आज जो रंगत है वो पहले तो न थी-ज़िन्दां-नामा-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

सुबह की आज जो रंगत है वो पहले तो न थी-ज़िन्दां-नामा-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

सुबह की आज जो रंगत है वो पहले तो न थी
क्या ख़बर आज ख़रामां सरे-गुलज़ार है कौन

शाम गुलनार हुई जाती है देखो तो सही
ये जो निकला है लिये मशअले-रुख़सार है कौन

रात महकी हुई आई है कहीं से, पूछो
आज बिखराये हुए जुल्फे-तरहदार है कौन

फिर डरे-दिल पे कोई देता है रह-रह दस्तक
जानिए फिर दिले-वहशी का तलबगार है कौन

Leave a Reply