सिर और पाँव-अन्योक्ति-चोखे चौपदे -अयोध्यासिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh,

सिर और पाँव-अन्योक्ति-चोखे चौपदे -अयोध्यासिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh,

जो बड़े हैं भार जिन पर है बहुत।
वे नहीं हैं मान के भूखे निरे।
है न तन के बीच अंगों की कमी।
पर गिरे जब पाँव पर तब सिर गिरे।

लोग पर के सामने नवते मिले।
पर न ये कब निज सगों से, जी फिरे।
दूसरों के पाँव पर गिरते रहे।
पर भला निज पाँव पर कब सिर गिरे।

तोड़ सोने को न लोहा बढ़ सका।
मोल सोने का गया टूटे न गिर।
पाँव ने सिर को अगर दीं ठोकरें।
तो हुआ ऊँचा न वह, नीचा न सिर।

Leave a Reply