सामनु आयौ री!-बरसि पिया के देस-शंकर लाल द्विवेदी -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankar Lal Dwivedi

सामनु आयौ री!-बरसि पिया के देस-शंकर लाल द्विवेदी -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shankar Lal Dwivedi

 

घिरत गगन, घन-सघन, निरखि सखि! सामनु आयौ री!
सामनु आयौ री!
निरखि सखि! सामनु आयौ री!
पीत-भीत, धरनी-हरिनी कौ, हिय हरिआयौ री!
मनौं मनभाबन पायौ री।
निरखि सखि! सामनु आयौ री!

चलति मरुत म्रिदु-मन्द,
पुलक मन-मानस में छहरी।
उड़त खद्योत दसहुँ दिसि, लागत-
पाबस के प्रहरी।।
कै दीपाबलि के दीपक-
धरि पंख, पबन-पसरे।
किंधौ बिलोकन अबनि,
देब-गन धरनी पै उतरे।।
बोलत-डोलत काग मुँडेरनि,
रिमझिम बरसतु मेह।
मनौं बियोगिनि बिरहा गाबति,
भिजबति अँसुवनि देह।।
उमगतु जल, सब थल, लखि सुन्दर समद लजायौ री!
निरखि सखि! सामनु आयौ री!

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply