सम्मान-सूक्ति-समुच्चय-अयोध्यासिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh,

 सम्मान-सूक्ति-समुच्चय-अयोध्यासिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh,

बरस जाती है रुचिकर वारि
विनय की मधुर वचन की खोज;
मिले निर्मल-उर-रवि-कर मंजु
विलसता है सम्मान-सरोज।
नहीं होता कीने के पास
अछूते आव-भगत का वास;
बुझी कब बिना समादर-ओस
किसी सम्मान-सुमन की प्यास?
ललित हो क्यों पाता सुविकास
स्नेहमय मधुर मिलन नभ अंक।
मधुरता-सुधा बरसता कौन
बिना सरसे सम्मान-मयंक?
दंभ का देखे असरस भाव
ठहरती कैसे सुमति समीप;
क्यों न घिरता अविनय-तम-तोम,
है न बलता सम्मान-प्रदीप।
पड़ी पत्तों-फूलों पर आँख,
मूल को सका न मन पहचान;
क्यों बने सफल कामना-बेलि,
मिल सका नहीं सलिल-सम्मान।

Leave a Reply