सच्च दा गीत-पंजाबी कविता-संत रविदास जी( रैदास जी) पर -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Sant Ravidas Ji Poems

सच्च दा गीत-पंजाबी कविता-संत रविदास जी( रैदास जी) पर -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Sant Ravidas Ji Poems

धरती दी अक्ख जद रोयी सी
तूं सच्च दा दीवा बाल दित्ता
पायआ ‘नेर पाखंडियां सी एथे
तूं तरक दा राह सी भाल दित्ता
तेरी बेगमपुरा ही मंज़िल सी
ताहीउं उसतत करे जहान सारा
तेरी बानी नूं जिस लड़ बन्न्हआं
‘न्हेरे दा कट्ट जंजाल दित्ता

जग्ग विच्च आया जदों सच्च दा पुजारी
उदों झूठ नूं तां फिकर प्या
इक्को नूर, इक्को रूप सभ दी है तन्द सांझी
वक्खो वक्ख कीहने ऐ केहा
चानने दी लीक जदों जग्ग विच्च खिलरी तां
‘नेरा उदों तिड़क ग्या
किरतां दे सच्चे-सुच्चे थड़्हे उत्ते बह के
आप अकलां नूं रिड़क ग्या
जग्ग विच्च आया जदों ……….

धरमां दा नां लैंदे कंम ने कसाईआं वाले
बुत्त, बन्द्यां दे विच्चों होर ने
पक्खपात, जातपात वाला जो ने रौला पाउंदे
कंम मन्दे उच्ची पाउंदे सोर ने
मास वाले लोथड़े हां इक्को लहू नाड़ां विच्च
वंडियां जो पाउंदे उहो चोर ने
जिन्द-जान जेहड़ी ऐ मनुक्खता दे लेखे लग्गे
उच्चे थड़्हे खड़्ह के केहा
जग्ग विच्च आया जदों ……….

कौन करे फैसला इह कौन छोटा, कौन वड्डा
स਼कलां दे पक्खों सभ इक ने
हर किसे मन विच्च प्यार दी चिनग लाउणी
फेर होने सभ इक्क मिक्क ने
कदे वी ना राग दूज-तीज वाला गाउन देणा
एदां ही तां पैंदे सारे फिक्क ने
जग्ग विच्च दे के सारे होका तूं बराबरी दा
सार्यां नूं बाहां च ल्या
जग्ग विच्च आया जदों ……….

अंधकार सम्यां च हौसले दा रूप सी तूं
पूरा अखवाआ विच्च जग्ग दे
सारियां सुगंधियां नूं हवा विच्च घोल दित्ता
बेगमपुरे वाले उच्चे सुर बज्जदे
बन्दे तों बन्दे नाल वितकरा ना होवे कोई
रहन इहो नाअरे सदा गज्जदे
छड्ड बुत्त पूजने तूं झूठे धरवास इहो
की ऐ धरवासां च प्या
जग्ग विच्च आया जदों ……….

(केहर शरीफ़)

Leave a Reply