श्लोक-गुरू अर्जन देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Arjan Dev Ji 6

शब्द -गुरू अर्जन देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Arjan Dev Ji 6

खात खरचत बिलछत रहे

खात खरचत बिलछत रहे टूटि न जाहि भंडार ॥
हरि हरि जपत अनेक जन नानक नाहि सुमार ॥1॥253॥

गनि मिनि देखहु मनै माहि

गनि मिनि देखहु मनै माहि सरपर चलनो लोग ॥
आस अनित गुरमुखि मिटै नानक नाम अरोग ॥1॥254॥

घोखे सासत्र बेद सभ

घोखे सासत्र बेद सभ आन न कथतउ कोइ ॥
आदि जुगादी हुणि होवत नानक एकै सोइ ॥1॥254॥

ङणि घाले सभ दिवस सास

ङणि घाले सभ दिवस सास नह बढन घटन तिलु सार ॥
जीवन लोरहि भरम मोह नानक तेऊ गवार ॥1॥254॥

चिति चितवउ चरणारबिंद

चिति चितवउ चरणारबिंद ऊध कवल बिगसांत ॥
प्रगट भए आपहि गोबिंद नानक संत मतांत ॥1॥254॥

छाती सीतल मनु सुखी

छाती सीतल मनु सुखी छंत गोबिद गुन गाइ ॥
ऐसी किरपा करहु प्रभ नानक दास दसाइ ॥1॥254॥

 जोर जुलम फूलहि घनो

जोर जुलम फूलहि घनो काची देह बिकार ॥
अह्मबुधि बंधन परे नानक नाम छुटार ॥1॥255॥

Leave a Reply