शीशे दे शहर दे वासी क्युं खेडें पत्थरां नाल-पंजाबी गीत-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

शीशे दे शहर दे वासी क्युं खेडें पत्थरां नाल-पंजाबी गीत-कर्मजीत सिंह गठवाला -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Karamjit Singh Gathwala ,

शीशे दे शहर दे वासी क्युं खेडें पत्थरां नाल ।
युग्गां दे पुजारी दस्स क्युं रुसदैं हुण मन्दरां नाल ।

इह तरेल जेहनूं कहनैं तूं मोती कोई अक्खां दा ।
जेहनूं समझ अवारा सुट्टदा इह दिल कोई लक्खां दा ।
कली आस वाली ना तोड़ीं पाली ए सद्धरां नाल ।

इह सानूं पता ए सारा ना साडी कोई हसती ।
ना गगन दिलासा देवे ना दरद वंडावे धरती ।
बेहाल मैं क्युं ना होवां ला के बेकदरां नाल ।

लिव तेरी संग सी जोड़ी तूं वी ए एदां करना ।
डुब्बणां ते कट्ठ्यां डुब्बणां तरना ते कट्ठ्यां तरना ।
की साडे नाल ए बीती तक्क आपणियां नज़रां नाल ।

लक्ख चोर भलाईआं दे लै याद तैनूं मैं रहना ।
जे मौत बाअद किसे पुच्छ्या तूं मेरा इह मैं कहना ।
इह वाअदा ए मैं लिख्या नैणां दे अक्खरां नाल ।

Leave a Reply