शायरी -श्याम सिंह बिष्ट -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shyam Singh Bisht Part 2

शायरी -श्याम सिंह बिष्ट -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Shyam Singh Bisht Part 2

 

12 –
ऐ कान्हा अब तेरे शहर में
मुरली खरीदने वाला कोई नहीं
सब लोगों को D.J का चस्का लग गया
कोई इधर गया कोई उधर गया ।

=======================

13 –
हृदय चंचल, मन चंचल,चंचल यह सारा जहां
प्रभु विराजे भितर हमारे, हम ढूंढे यहां वहां ।

=======================

14-
वौ राह देखती होगी हमारा
अपने दरवाजे की चोखट पर खड़े होकर
और एक हम है कि यहां,
जिंदगी की उल्फत में पड़े हुए हैं ।

=======================

15 –
बीते हुए समय को याद करने पर,
इंसान को दो ही चीजें मिलती है
या तो खुशी, या फिर घाव ।

=======================

16 –
आज पलकें भीगी हैं उनकी,
हमारी याद मैं,
लगता है आज फिर बरसात होगी ।

=======================

17 –
जब, जब हूई यह बारिश,
मुझे तेरा आंचल याद आया है ।

=======================

18-
तेरी याद
जंगल मैं लगी उस आग की तरह है
जिसमें सिर्फ मैं ही जला हूँ ।

=======================

19-
मैनें रूह से तेरी मोहब्बत की है
जिस्म तो बाजारों मैं
कई मिल जाते हैं ।

=======================

20-
मैं आज फिर उस गली से गुजरा
जिस गली में तेरा वो मकान था ।

=======================

21-
उनसे कोई कह दे
यूँ रोज सपनो मैं ना आया करे
हमें आज कल नींद अब कम आती है ।

=======================

22-
ना जाने
मेरे दिल का चालान कब कटेगा

=======================

23-
अब तो मेरा पीछा छोड़
ए नादान जिंदगी
तेरे शहर में, मैं ही तो एक शख्स
गमों से मारा नहीं ।

=======================

24-
आजकल मेरी आंखें सोती नहीं
ना जाने इनको किसका इंतजार है ।

=======================

25-
ऐ जिंदगी –
थोड़ी सी मोहल्लत और दे, दे
अभी तो मैंने, उन्हें
जी भर देखा भी नहीं ।

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply