शायरी-मिर्ज़ा ग़ालिब-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mirza Ghalib Poetry/shers part 4

शायरी-मिर्ज़ा ग़ालिब-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mirza Ghalib Poetry/shers part 4

दायम पड़ा हुआ तेरे दर पर नहीं हूं मैं

दायम पड़ा हुआ तेरे दर पर नहीं हूं मैं
ख़ाक ऐसी ज़िन्दगी पे कि पत्थर नहीं हूं मैं

कयों गरदिश-ए-मुदाम से घबरा न जाये दिल
इनसान हूं पयाला-ओ-साग़र नहीं हूं मैं

या रब ! ज़माना मुझको मिटाता है किस लिये
लौह-ए-जहां पे हरफ़-ए-मुकररर नहीं हूं मैं

हद चाहिये सज़ा में उकूबत के वासते
आख़िर गुनहगार हूं, काफ़िर नहीं हूं मैं

किस वासते अज़ीज़ नहीं जानते मुझे ?
लालो-ज़मुररुदो-ज़र-ओ-गौहर नहीं हूं मैं

रखते हो तुम कदम मेरी आंखों में कयों दरेग़
रुतबे में मेहर-ओ-माह से कमतर नहीं हूं मैं

करते हो मुझको मनअ-ए-कदम-बोस किस लिये
क्या आसमान के भी बराबर नहीं हूं मैं

‘ग़ालिब’ वज़ीफ़ाख़वार हो, दो शाह को दुआ
वो दिन गये कि कहते थे, “नौकर नहीं हूं मैं”

हर इक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है

हर इक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुमहीं कहो कि ये अन्दाज़े-गुफ़तगू क्या है

न शोले में ये करिशमा न बरक में ये अदा
कोई बतायो कि वो शोखे-तुन्द-ख़ू क्या है

ये रशक है कि वो होता है हमसुख़न तुमसे
वरना ख़ौफ़-ए-बद-आमोज़ीए-अदू क्या है

चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन
हमारी जैब को अब हाजते-रफ़ू क्या है

जला है जिसम जहां, दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख, जुसतजू क्या है

रग़ों में दौड़ने-फिरने के हम नहीं कायल
जब आंख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है

वो चीज़ जिसके लिये हमको हो बहशत अज़ीज़
सिवाये वादा-ए-गुलफ़ाम-ए-मुशक बू क्या है

पीयूं शराब अगर ख़ुम भी देख लूं दो-चार
ये शीशा-ओ-कदह-ओ-कूज़ा-ओ-सुबू क्या है

रही न ताकते-गुफ़तार और अगर हो भी
तो किस उम्मीद पे कहये कि आरज़ू क्या है

हुआ है शह का मुसाहब फिरे है इतराता
वगरना शहर में ‘ग़ालिब’ की आबरू क्या है

मेरे शौक दा नहीं इतबार तैनूं

(मिरज़ा ग़ालिब दी फ़ारसी रचना दा अनुवाद)

मेरे शौक दा नहीं इतबार तैनूं,
आजा वेख मेरा इंतज़ार आजा ।
ऐवें लड़न बहानने लभ्भना एं,
की तूं सोचना एं सितमगार आजा ।

भावें हिजर ते भावें विसाल होवे,
वक्खो वक्ख दोहां दियां लज़्ज़तां ने,
मेरे सोहण्यां जाह हज़ार वारी,
आजा प्यार्या ते लक्ख वार आजा ।

इह रिवाज़ ए मसजिदां मन्दरां दा
ओथे हसतियां ते ख़ुद-प्रसतियां ने,
मैख़ाने विच्च मसतियां ई मसतियां ने
होश कर बणके हुश्यार आजा ।

तूं सादा ते तेरा दिल सादा
तैनूं ऐवें रकीब कुराह पायआ,
जे तूं मेरे जनाज़े ते नहीं आया
राह तक्कदै तेरी मज़ार आजा ।

सुक्खीं वस्सना जे तूं चाहुना एं,
मेरे ‘ग़ालिबा’ एस जहान अन्दर,
आजा रिन्दां दी बज़म विच्च आ बहजा,
इत्थे बैठदे ने ख़ाकसार आजा ।

फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया

फिर मुझे दीदा-ए-तर याद आया
दिल जिगर तिशना-ए-फ़रियाद आया

दम लीया था न क्यामत ने हनोज़
फिर तेरा वकते-सफ़र याद आया

सादगी-हाए-तमन्ना, यानी
फिर वो नौरंगे-नज़र याद आया

उज़रे-वा-मांदगी ऐ हसरते-दिल
नाला करता था जिगर याद आया

ज़िन्दगी यों भी गुज़र ही जाती
कयों तेरा राहगुज़र याद आया

क्या ही रिज़वां से लड़ायी होगी
घर तेरा ख़ुलद में गर याद आया

आह वो जुररत-ए-फ़रियाद कहां
दिल से तंग आ के जिगर याद आया

फिर तेरे कूचे को जाता है ख़याल
दिले-गुंमगशता मगर याद आया

कोई वीरानी सी वीरानी है
दशत को देख के घर याद आया

मैंने मजनूं पे लड़कपन में ‘असद’
संग उठाया था कि सर याद आया

वो फ़िराक और वो विसाल कहां

वो फ़िराक और वो विसाल कहां
वो शब-ओ-रोज़-ओ-माह-ओ-साल कहां

फ़ुरसत-ए-कारोबार-ए-शौक किसे
जौक-ए-नज़्ज़ारा-ए-जमाल कहां

दिल तो दिल वो दिमाग़ भी न रहा
शोर-ए-सौदा-ए-ख़त्त-ओ-ख़ाल कहां

थी वो इक शखस के तसव्वुर से
अब वो रानाई-ए-ख़याल कहां

ऐसा आसां नहीं लहू रोना
दिल में ताकत जिगर में हाल कहां

हमसे छूटा किमारख़ाना-ए-इशक
वां जो जावें, गिरह में माल कहां

फ़िक्र-ए-दुनिया में सर खपाता हूं
मैं कहां और ये वबाल कहां

मुज़मंहल हो गये कुवा ‘ग़ालिब’
वो अनासिर में एतदाल कहां

न गुल-ए-नग़मा हूं

न गुल-ए-नग़मा हूं, न परदा-ए-साज़
मैं हूं अपनी शिकसत की आवाज़

तू, और आरायश-ए-ख़म-ए-काकुल
मैं, और अन्देशा-हाए-दूरो-दराज़

लाफ़-ए-तमकीं फ़रेब-ए-सादा-दिली
हम हैं, और राज़ हाए-सीना-ए-गुदाज़

हूं गिरफ़तारे उलफ़त-ए-सैयाद
वरना बाकी है ताकते परवाज़

वो भी दिन हो कि उस सितमगर से
नाज़ खींचूं बजाय हसरते-नाज़

नहीं दिल में तेरे वो कतरा-ए-ख़ूं
जिस से मिज़गां हुयी न हो गुलबाज़

मुझको पूछा तो कुछ ग़ज़ब न हुआ
मैं ग़रीब और तू ग़रीब-नवाज़

असदुललाह ख़ां तमाम हुआ
ऐ दरेग़ा वह रिन्द-ए-शाहदबाज़

मज़े जहान के अपनी नज़र में ख़ाक नहीं

मज़े जहान के अपनी नज़र में ख़ाक नहीं
सिवाए ख़ून-ए-जिगर, सो जिगर में ख़ाक नहीं

मगर ग़ुबार हुए पर हवा उड़ा ले जाये
वगरना ताब-ओ-तबां बालो-पर में ख़ाक नहीं

ये किस बहशत-शमायल की आमद-आमद है ?
कि ग़ैर-ए-जलवा-ए-गुल रहगुज़र में ख़ाक नहीं

भला उसे न सही, कुछ मुझी को रहम आता
असर मेरे नफ़स-ए-बेअसर में ख़ाक नहीं

ख़याल-ए-जलवा-ए-गुल से ख़राब है मयकश
शराबख़ाने के दीवार-ओ-दर में ख़ाक नहीं

हुआ हूं इशक की ग़ारतगरी से शरिमन्दा
सिवाय हसरत-ए-तामीर घर में ख़ाक नहीं

हमारे शे’र हैं अब सिरफ़ दिल-लगी के ”असद”
खुला कि फ़ायदा अरज़-ए-हुनर में ख़ाक नहीं

मसजिद के ज़ेर-ए-साया ख़राबात चाहिये

मसजिद के ज़ेर-ए-साया ख़राबात चाहिये
भौं पास आंख किबला-ए-हाजात चाहिये

आशिक हुए हैं आप भी एक और शख़स पर
आख़िर सितम की कुछ तो मुकाफ़ात चाहिये

दे दाद ऐ फ़लक दिल-ए-हसरत-परसत की
हां कुछ न कुछ तलाफ़ी-ए-माफ़ात चाहिये

सीखे हैं मह-रुख़ों के लिए हम मुसव्वरी
तकरीब कुछ तो बहर-ए-मुलाकात चाहिये

मय से ग़रज़ नशात है किस रु-सियाह को
इक-गूना बे-ख़ुदी मुझे दिन रात चाहिये

है रंग-ए-लाला-ओ-गुल-ओ-नसरीं जुदा जुदा
हर रंग में बहार का इसबात चाहिये

सर पा-ए-ख़ुम पे चाहिये हंगाम-ए-बे-ख़ुदी
रू सू-ए-किबला वकत-ए-मुनाजात चाहिये

यानी ब-हसब-ए-गरिदश-ए-पैमान-ए-सिफ़ात
आरिफ़ हमेशा मसत-ए-मय-ए-ज़ात चाहिये

नशव-ओ-नुमा है असल से ”ग़ालिब” फ़ुरू को
ख़ामोशी ही से निकले है जो बात चाहिये

Leave a Reply