शायरी-मिर्ज़ा ग़ालिब-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mirza Ghalib Poetry/shers part 1

शायरी-मिर्ज़ा ग़ालिब-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mirza Ghalib Poetry/shers part 1

आह को चाहिये इक उम्र असर होने तक

आह को चाहिये इक उम्र असर होने तक
कौन जीता है तेरी ज़ुल्फ़ के सर होने तक

दाम हर मौज में है हलका-ए-सदकामे-नहंग
देखें क्या गुज़रे है कतरे पे गुहर होने तक

आशिकी सबर तलब और तमन्ना बेताब
दिल का क्या रंग करूं ख़ूने-जिगर होने तक

हमने माना कि तगाफुल न करोगे लेकिन
ख़ाक हो जाएंगे हम तुमको ख़बर होने तक

परतवे-खुर से है शबनम को फ़ना की तालीम
मैं भी हूं एक इनायत की नज़र होने तक

यक-नज़र बेश नहीं फुरसते-हसती गाफ़िल
गरमी-ए-बज़म है इक रकसे-शरर होने तक

ग़मे-हसती का ‘असद’ किस से हो जुज़ मरग इलाज
शमा हर रंग में जलती है सहर होने तक

दिल ही तो है न संग-ओ-ख़िशत

दिल ही तो है न संग-ओ-ख़िशत दर्द से भर न आये कयों
रोएंगे हम हज़ार बार कोई हमें सताये कयों

दैर नहीं, हरम नहीं, दर नहीं, आसतां नहीं
बैठे हैं रहगुज़र पे हम, ग़ैर हमें उठाये कयों

जब वो जमाल-ए-दिलफ़रोज़, सूरते-मेह्रे-नीमरोज़
आप ही हो नज़ारा-सोज़, परदे में मुंह छिपाये कयों

दशना-ए-ग़मज़ा जां-सतां, नावक-ए-नाज़ बे-पनाह
तेरा ही अकस-ए-रुख़ सही, सामने तेरे आये कयों

कैदे-हयातो-बन्दे-ग़म असल में दोनों एक हैं
मौत से पहले आदमी ग़म से निजात पाये कयों

हुसन और उसपे हुसन-ए-ज़न रह गई बुल-हवस की शरम
अपने पे एतमाद है ग़ैर को आज़माये कयों

वां वो ग़ुरूर-ए-इज़ज़-ओ-नाज़ यां ये हिजाब-ए-पास-ए-वज़अ
राह में हम मिलें कहां, बज़म में वो बुलाये कयों

हां वो नहीं ख़ुदापरसत, जायो वो बेवफ़ा सही
जिसको हो दीन-ओ-दिल अज़ीज़, उसकी गली में जाये कयों

‘ग़ालिब’-ए-ख़सता के बग़ैर कौन से काम बन्द हैं
रोइये ज़ार-ज़ार क्या, कीजिये हाय-हाय कयों

धमकी में मर गया, जो न बाबे-नबरद था

धमकी में मर गया, जो न बाबे-नबरद था
इशके-नबरद पेशा, तलबगारे-मरद था

था ज़िन्दगी में मरग का खटका लगा हुआ
उड़ने से पेशतर भी मेरा रंग ज़रद था

तालीफ़े-नुसखाहा-ए वफ़ा कर रहा था मैं
मजमूअ-ए-ख़याल अभी फ़रद-फ़रद था

दिल ता ज़िग़र, कि साहले-दरीया-ए-खूं है अब
इस रहगुज़र में जलवा-ए-गुल आगे गरद था

जाती है कोई कशमकश अन्दोहे-इशक की
दिल भी अगर गया, तो वही दिल का दर्द था

अहबाब चारा-साजीए-वहशत न कर सके
ज़िन्दां में भी ख़याल, बयाबां-नबरद था

यह लाश बेकफ़न, ‘असदे’-ख़सता-जां की है
हक मगफ़िरत करे, अजब आज़ाद मरद था

 जहां तेरा नक्शे-कदम देखते हैं

जहां तेरा नक्शे-कदम देखते हैं
ख़ियाबां ख़ियाबां इरम देखते हैं

दिल आशुफ़तगा खाले-कुंजे-दहन के
सुवैदा में सैरे-अदम देखते हैं

तिरे सरवे-कामत से, इक कद्दे-आदम
कयामत के फितने को कम देखते हैं

तमाशा कर ऐ महवे-आईनादारी
तुझे किस तमन्ना से हम देखते हैं

सुराग़े-तुफ़े-नाला ले दाग़े-दिल से
कि शब-रौ का नक्शे-कदम देखते हैं

बना कर फ़कीरों का हम भेस, ‘गालिब’
तमाशा-ए-अहले-करम देखते हैं

नक्श फरियादी है किसकी शोख़ी-ए-तहरीर का

नक्श फरियादी है किसकी शोख़ी-ए-तहरीर का
काग़ज़ी है पैरहन हर पैकर-ए-तसवीर का

कावे-कावे सख़तजानीहा-ए-तनहायी न पूछ
सुबह करना शाम का लाना है जू-ए-शीर का

ज़ज़बा-ए-बेइख़तयारे-शौक देखा चाहीए
सीना-ए-शमशीर से बाहर है दम शमशीर का

आगही दाम-ए-शनीदन जिस कदर चाहे बिछाए
मुद्दआ अंका है अपने आलमे-तकरीर का

बस कि हूं ‘ग़ालिब’ असीरी में भी आतिश ज़ेरे-पा
मूए-आतिश-दीदा है हलका मेरी ज़ंजीर का

रहीये अब ऐसी जगह चलकर, जहां कोई न हो

रहीये अब ऐसी जगह चलकर, जहां कोई न हो
हम-सुखन कोई न हो और हम जुबां कोई न हो

बेदरो-दीवार सा इक घर बनाया चाहिये
कोई हमसाया न हो और पासबां कोई न हो

पड़ीये गर बीमार, तो कोई न हो तीमारदार
और अगर मर जाईये, तो नौहा ख़वां कोई न हो

 ज़िक्र उस परीवश का और फिर बयां अपना

ज़िक्र उस परीवश का और फिर बयां अपना
बन गया रकीब आख़िर था जो राज़दां अपना

मय वो कयों बहुत पीते बज़म-ए-ग़ैर में, यारब
आज ही हुआ मंज़ूर उनको इमतहां अपना

मंज़र इक बुलन्दी पर और हम बना सकते
अरश से उधर होता काश के मकां अपना

दे वो जिस कदर ज़िल्लत हम हंसी में टालेंगे
बारे आशना निकला उनका पासबां अपना

दर्द-ए-दिल लिखूं कब तक, जाऊं उन को दिखला दूं
उंगलियां फ़िगार अपनी ख़ामा ख़ूंचकां अपना

घिसते-घिसते मिट जाता आप ने अबस बदला
नंग-ए-सिजदा से मेरे संग-ए-आसतां, अपना

ता करे न ग़म्माज़ी, कर लिया है दुशमन को
दोसत की शिकायत में हम ने हमज़बां अपना

हम कहां के दाना थे, किस हुनर में यकता थे
बेसबब हुआ ‘ग़ालिब’ दुशमन आसमां अपना

This Post Has One Comment

Leave a Reply