शामील-इक वीर-योधा- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov) 

शामील-इक वीर-योधा- पंजाबी कविता( अनुवाद)-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov)

(शामील ज़ारशाही विरुद्ध दाग़िस्तान दा वीर योधा सी,
सरकार ने उसनूं कौमां विच फुट्ट पाउन वाला ऐलान दित्ता,
रसूल ने जोश विच शामील विरुद्ध कविता रची, इह कविता
उसे दा पछतावा है ।)

फिर उह ज़खम पुराना जेहड़ा आखर कदी ना भरिया,
दिल मेरे ‘ते छुरी चलावे, ते अग्ग दे विच बाले ।
इह सी कथा कोई वड्ड्यां दी, इसनूं मैं बचपन तों
जाणां जिवें इह उनी होई सी उसदे नां दुआले ।

सी इह कथा जित्थे यथारथ दे विच गुझ्झी होई
जिसनूं बचपन विच सुणदा सां इकमन, इकचित हो के,
जद कि उसदे हुक़्म च चलदियां बहादर फौजां वांगूं
बद्दल संध्या दे तरदे सन घरां दे उत्ते हो के ।

सी इह गीत ग़मां दा जेहड़ा मां गायआ करदी सी ।
उसदियां निरमल अक्खां विच हंझू देंदे लिशकारे ।
अज्ज तक्क नहीं भुला सकदा मैं कि फिर किवें उन्हां तों
संध्या दी वादी विच बण जांदे सन शबनम-तारे ।

कंध नाल लग्गे फरेम ते सारे सकलिया नूं सी तकदा
बज़ुरग बहादर रणजोधा उह-फौजी वरदी पाई ।
खब्ब-हत्था सी उह-ते शसतर सज्जे पासे लटके
आप खड़ा किरपान दी मुट्ठ ‘ते खब्बा हत्थ टिकाई ।

याद है मैनूं, जद उसने तस्वीर तों हेठां तकदे
दो मेरे वड्डे वीरे जंग लई विदा सी कीते ।
ते, तां जो उसदे नां उत्ते टैंक कोई बण सके,
भैन मेरी ने गानी ते बाज़ूबन्द सी दे दित्ते ।

ते मेरे प्यो ने वी कुझ चिर ही बस मरन तों पहलां,
कविता उस योधे बारे सी लिखी । पर हाए, कमबखती !
तद तक शामील बिनां कसूरों ऐवें ग्या कलखायआ
उसदे नां ते आ गई झूठी दन्दकथा दी सखती ।

अचनचेत इह स्ट्ट ना पैंदी तां फिर हो सकदा सी
प्यो मेरा कुझ होर ज्युंदा…मैं वी दोश-भ्याली पाई:
मन्न ग्या सभ कुझ, ते जलदी जेहे गीत झरीट्या मैं वी,
दोश-गान विच तूती आपनी दी मैं ‘वाज रलाई ।

वड-वडेरे दी तलवार नूं, जिसने सदी चुथाई
बिन-थक्क्यां, जंग विच सी दुश्मन दे आहू लाहे,
मैं, भटके ने, मुंडपुने वाली कविता विच लिख्या,
उह हथ्यार कि जिसनूं केवल इक ग़द्दार ही पाए ।

भारी कदम ओसदे हुन रातां नूं साफ़ सुणींदे ।
बारी नाल लग्गा दिस्से ज्युं ही बत्ती बन्द होवे ।
आऊल अखूलगो दा उह रखिअक कहरी नज़रां वाला
गुनीब दा बुढ-स्याना फिर मेरे कोल आण खलोवे ।

उह आखे, “जंगां दे विच ते मच्चदे भांबड़ां दे विच,
बेहद डोहल्या खून सी मैं, ते बेहद्द दुख उठायआ ।
उुन्नीं घाउ सहे बलदे उहनां विच जिसम मेरे ने,
तूं, दुद्ध पींदे बच्चे, मैनूं वीहवां घाउ लगायआ ।

खंजरां तों ते गोलियां तों लग्गे मैं ज़खम सहे सी ।
पर तेरा डंग सभनां नालों तिगुनी पीड़ पुचावे-
क्युंकि किसे पहाड़ी तों इह पहला ज़खम सी लग्गा
होर कोई बेइज़ती ना शिद्दत विच इस तुल्ल आवे ।

हो सकदा है अज्ज जहाद दी लोड़ ना पवे तुहानूं ।
पर कदी इहनां परबतां दी उसने सी कीती राखी ।
हो सकदा है अज्ज मेरे शसतर हो गए पुराणे,
पर आज़ादी दी सेवा कीती दे इह ने साखी ।

मैं लड़्या जंगां बिन-थक्क्यां, परबत-जाए दे हठ नाल,
समां कदी ना मिल्या मैनूं गीतां ते जशनां दा ।
इंझ हुन्दा सी कि तुकबाज़ां नूं कोड़े सां लाउंदा,
कथाघाड़्यां नूं तक्क के मैनूं ताय सी चढ़ जांदा ।

शायद गलती ‘ते सां जद उहनां नाल कीती सखती
आपना गर्म सुभाय काबू रक्खन दा नहीं सां आदी ।
पर तेरे जेहे होछे तुकबाज़ां नूं अज्ज वी देखां
तां लग्गे मैं उदों वी नहीं सी ग़लती खाधी ।”

सवेर होन तक्क खड़ा सिरहाने इंझ उह देवे गाल्हां,
साफ दिखाई देवे, भावें अद्धी रात हनेरा ।
पापाखे दे उत्ते चलमा कस्स के बन्न्हआ होया
ते महन्दी-रंगे दाहड़े वाला उह भरवां चेहरा ।

मैं निरुतर ! उसदे साहवें अते तुहाडे साहवें वी
मेरे लोको, मैं ना-मुआफ्योग गुनाह है कीता !
नायब इमाम दा सी इक डाढा हंढ्या होया सिपाही
हाजी मुरात सी नां, जिसने बेदावा सी लिख दित्ता ।

आपने आप ते शरमिन्दा, उस मुड़न दा फैसला कीता,
पर जा फस्या विच दलदल दे, दंड पूरा उस पायआ ।
मैं मुड़ जावां कोल इमाम दे ? क्या गल्ल हासोहीनी !
ना उह मेरा राह है ते ना ही हुन उह है समां रिहा ।

बिन-सोचे कीती रचना आपनी लई मैं शरमिन्दा,
सखत उनींदे झागां रातीं, इउं उसदा फल पावां ।
मैं चाहुन्दा हां इमाम नूं माफी दे लई अरज़ गुज़ारां
पर इसदे लई, मैं नहीं चाहुन्दा, दलदल विच फस जावां ।

तेग़ नाल लिखदा है जेहड़ा उह ना रंजश भुल्ले ।
की फायदा अरजोईआं दा जद ना कोई अरज़ कबूले ।
मेरी कच्च-उमरी कविता ने जो तुहमत सी लाई
सारी उमर रहांगा उसदा दिल ‘ते बोझ उठाई ।

सुक्ख !…पर तूं ऐ कौम मेरी ! मेरी भुल्ल बखशीं मैनूं,
बिन-सीमा आखर जीवन भर प्यार कीता मैं तैनूं ?
मेरी मां-भूमी ! देखीं ना कवी नूं एस नज़र नाल,
ज्युं कोई मां शरमिन्दा होवे पुत्त दे बुरे हशर नाल ।

This Post Has One Comment

Leave a Reply