शहदाबा -मुनव्वर राना -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Munnawar Rana Shahdaba Part 2

शहदाबा -मुनव्वर राना -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Munnawar Rana Shahdaba Part 2

अच्छा हुआ कि मेरा नशा भी उतर गया

अच्छा हुआ कि मेरा नशा भी उतर गया
तेरी कलाई से ये कड़ा भी उतर गया

वो मुतमइन बहुत है मिरा साथ छोड़ कर
मैं भी हूँ ख़ुश कि क़र्ज़ मिरा भी उतर गया

रुख़्सत का वक़्त है यूँही चेहरा खिला रहे
मैं टूट जाऊँगा जो ज़रा भी उतर गया

बेकस की आरज़ू में परेशाँ है ज़िंदगी
अब तो फ़सील-ए-जाँ से दिया भी उतर गया

रो-धो के वो भी हो गया ख़ामोश एक रोज़
दो-चार दिन में रंग-ए-हिना भी उतर गया

पानी में वो कशिश है कि अल्लाह की पनाह
रस्सी का हाथ थामे घड़ा भी उतर गया

वो मुफ़्लिसी के दिन भी गुज़ारे हैं मैं ने जब
चूल्हे से ख़ाली हाथ तवा भी उतर गया

सच बोलने में नश्शा कई बोतलों का था
बस ये हुआ कि मेरा गला भी उतर गया

पहले भी बे-लिबास थे इतने मगर न थे
अब जिस्म से लिबास-ए-हया भी उतर गया

ऐसा लगता है कि कर देगा अब आज़ाद मुझे

ऐसा लगता है कि कर देगा अब आज़ाद मुझे
मेरी मर्ज़ी से उड़ाने लगा सय्याद मुझे

मैं हूँ सरहद पे बने एक मकाँ की सूरत
कब तलक देखिए रखता है वो आबाद मुझे

एक क़िस्से की तरह वो तो मुझे भूल गया
इक कहानी की तरह वो है मगर याद मुझे

कम से कम ये तो बता दे कि किधर जाएगी
कर के ऐ ख़ाना-ख़राबी मिरी बर्बाद मुझे

मैं समझ जाता हूँ इस में कोई कमज़ोरी है
मेरे जिस शे’र पे मिलती है बहुत दाद मुझे

अच्छी से अच्छी आब-ओ-हवा के बग़ैर भी

अच्छी से अच्छी आब-ओ-हवा के बग़ैर भी
ज़िंदा हैं कितने लोग दवा के बग़ैर भी

साँसों का कारोबार बदन की ज़रूरतें
सब कुछ तो चल रहा है दुआ के बग़ैर भी

बरसों से इस मकान में रहते हैं चंद लोग
इक दूसरे के साथ वफ़ा के बग़ैर भी

अब ज़िंदगी का कोई भरोसा नहीं रहा
मरने लगे हैं लोग क़ज़ा के बग़ैर भी

हम बे-क़ुसूर लोग भी दिलचस्प लोग हैं
शर्मिंदा हो रहे हैं ख़ता के बग़ैर भी

चारागरी बताए अगर कुछ इलाज है
दिल टूटने लगे हैं सदा के बग़ैर भी

फिर हवा सिर्फ़ चराग़ों का कहा करती है

फिर हवा सिर्फ़ चराग़ों का कहा करती है
जब दवा कुछ नहीं करती तो दुआ करती है

इक समंदर है जो शहर को निगल जाता है
इक नदी है जो समंदर का भला करती है

तुम कभी उसको भुलाने की न कोशिश करना
ये दवा और भी ज़ख्मों को हरा करती है

कोशिशें करती चली आई है दुनिया लेकिन
उम्र वह पूंजी है ..जो रोज घटा करती है

यूँ तो अब उसको सुझाई नहीं देता लेकिन
माँ अभी तक मेरे चेहरे को पढ़ा करती है

मां की सब आदतें बेटी में चली आयी हैं
मैं तो सो जाता हूं लेकिन वो जगा करती है

फिर से बदल के मिट्टी की सूरत करो मुझे

फिर से बदल के मिट्टी की सूरत करो मुझे
इज़्ज़त के साथ दुनिया से रुख़्सत करो मुझे

मैं ने तो तुम से की ही नहीं कोई आरज़ू
पानी ने कब कहा था कि शर्बत करो मुझे

कुछ भी हो मुझ को एक नई शक्ल चाहिए
दीवार पर बिछाओ मुझे छत करो मुझे

जन्नत पुकारती है कि मैं हूँ तिरे लिए
दुनिया ब-ज़िद है मुझ से कि जन्नत करो मुझे

अड़े कबूतर उड़े ख़याल

इक बोसीदा मस्जिद में
दीवारों मेहराबों पर
और कभी छत की जानिब
मेरी आँखें घूम रही हैं
जाने किस को ढूँड रही हैं
मेरी आँखें रुक जाती हैं
लोहे के उस ख़ाली हुक पर
जो ख़ाली ख़ाली नज़रों से
हर इक चेहरा देख रहा है
इक ऐसे इंसान का शायद
जो इक पंखा ले आएगा
लाएगा और दूर करेगा
मस्जिद की बे-सामानी को
ख़ाली हुक की वीरानी पर
मैं ने जब उस हुक को देखा
मेरी नन्ही फूल सी बेटी
मेरी आँखों में दौड़ आई
भोली माँ ने उस की
अपनी प्यारी राज-दुलारी बेटी के
दोनों कानों को
अपने हाथों से छेद दिया है
फूलों जैसे कानों में फिर
नीम के तिनके डाल दिए हैं
उम्मीदों आसों के सहारे
दिल ही दिल में सोच रही है
जब हम को अल्लाह हमारा
थोड़ा सा भी पैसा देगा
बेटी के कानों में उस दिन
बालियाँ होंगी बुंदे होंगे
मैं ने अनथक मेहनत कर के
पंखा एक ख़रीद लिया है
मस्जिद के इस ख़ाली हुक को
मैं ने पंखा सौंप दिया है
हुक में पंखा देख के मुझ को
होता है महसूस कि जैसे
मेरी बेटी बालियाँ पहने
घर की छत पर घूम रही है

उकताए हुए बदन

उम्र की ढलती हुई दोपहर में
ठंडी हवा के झोंके का एहसास भी
आदमी को ताज़ा-दम कर देता है
और अगर सच-मुच ख़ुनुक हवाएँ
थकन-नसीब जिस्म से खेलने लगें
तो शब की तारीकी ख़िज़ाब जैसी दिखाई देती है
आस-पास गर्दिश करता हुआ सन्नाटा
आरज़ूओं की गहमागहमी से गूँजने लगता है
ख़्वाब ताबीरों की तलाश में भटकने लगते हैं
बदन की उक्ताहटें चौपाल के शोर-शराबे में डूब जाती हैं
ढलते हुए सूरज की लाली से सुहाग जोड़े की ख़ुशबू
आने लगती है
लेकिन ख़्वाबीदा आरज़ूओं की शाहराह से गुज़रते हुए
लोग
अपनी मंज़िल का पता भूल जाते हैं
इसी पता भूलने को समाज
धर्म और मज़हब की आड़ ले कर
ऐसी बे-हूदा गालियाँ देता है
जो तवाइफ़ों के मोहल्लों में भी नहीं
सुनाई देतीं

ख़ुद-कलामी

क्या ज़रूरी है कि हम फ़ोन पे बातें भी करें
क्या ज़रूरी है कि हर लफ़्ज़ महकने भी लगे
क्या ज़रूरी है कि हर ज़ख़्म से ख़ुशबू आए
क्या ज़रूरी है वफ़ादार रहें हम दोनों
क्या ज़रूरी है दवा सारी असर कर जाए
क्या ज़रूरी है कि हर ख़्वाब हम अच्छा देखें
क्या ज़रूरी है कि जो चाहें वही हो जाए
क्या ज़रूरी है कि मौसम हो हमारा साथी
क्या ज़रूरी है सफ़र में कहीं साया भी मिले
क्या ज़रूरी है तबस्सुम यूँही मौजूद रहे
क्या ज़रूरी है हर इक राह में जुगनू चमकीं
क्या ज़रूरी है कि अश्कों को रवानी भी मिले
क्या ज़रूरी है कि मिलना ही मुक़द्दर ठहरे
क्या ज़रूरी है कि हर रोज़ मिलें हम दोनों
हम जहाँ गाँव बसाएँ वहाँ इक झील भी हो
क्या ज़रूरी है मोहब्बत तिरी तकमील भी हो

पत्थर के होंट

कल रात
बारिश से जिस्म
और आँसुओं से
चेहरा भीग रहा था
उस के ग़म की पर्दा-दारी
शायद ख़ुदा भी करना चाहता था
लेकिन धूप निकलने के ब’अद
जिस्म तो सूख गया
लेकिन आँखों ने
क़ुदरत का कहना मानने से
भी
इंकार कर दिया
उस के उदास
होंट पत्थर के हो गए थे
और पत्थर मुस्कुरा नहीं सकते

मेरे स्कूल

मेरे स्कूल मिरी यादों के पैकर सुन ले
मैं तिरे वास्ते रोता हूँ बराबर सुन ले
तेरे उस्तादों ने मेहनत से पढ़ाया है मुझे
तेरी बेंचों ने ही इंसान बनाया है मुझे
ना-तराशीदा सा हीरा था तराशा तू ने
ज़ेहन-ए-तारीक को बख़्शा है उजाला तू ने
इल्म की झील का तैराक बनाया है मुझे
ख़ौफ़ को छीन के बेबाक बनाया है मुझे
तुझ से शफ़क़त भी मिली तुझ से मोहब्बत भी मिली
दौलत-ए-इल्म मिली मुझ को शराफ़त भी मिली
शफ़्क़तें ऐसी मिली हैं मुझे उस्तादों की
परवरिश करता हो जैसे कोई शहज़ादों की
तेरी चाहत में मैं इस दर्जा भी खो जाता था
तेरी बेंचों पे ही कुछ देर को सो जाता था

सफ़ेद सच

उस की उँगलियाँ हमेशा सच बोलती हैं
बड़ा यक़ीन था उसे अपनी उँगलियों पर
उन के सच्चे होने पर भी बड़ा नाज़ था
वो हमेशा अपनी उँगलियों को
बातों बातों में चूम लेती थी
एक दिन नादानी में उस ने
अपनी उँगलियाँ मेरे होंटों पर रख दीं
उस दिन से उस की उँगलियाँ सच नहीं बोलतीं
सिर्फ़ झूट बोलती हैं

ओल्ड गोल्ड

लायक़ औलादें
अपने बुज़ुर्गों को
ड्राइंगरूम के क़ीमती सामान की तरह रखती हैं
उन्हें पता है कि एंटीक को
छुपा कर नहीं रखा जाता
उन्हें सजाया जाता है

सोनिया गाँधी

रुख़सती होते ही मां-बाप का घर भूल गयी।
भाई के चेहरों को बहनों की नज़र भूल गयी।
घर को जाती हुई हर राहगुज़र भूल गयी,
मैं वो चिडि़या हूं कि जो अपना शज़र भूल गयी।

मैं तो भारत में मोहब्बत के लिए आयी थी,
कौन कहता है हुकूमत के लिए आयी थी।

नफ़रतों ने मेरे चेहरे का उजाला छीना,
जो मेरे पास था वो चाहने वाला छीना।
सर से बच्चों के मेरे बाप का साया छीना,
मुझसे गिरजा भी लिया, मुझसे शिवाला छीना।

अब ये तक़दीर तो बदली भी नहीं जा सकती,
मैं वो बेवा हूं जो इटली भी नहीं जा सकती।

आग नफ़रत की भला मुझको जलाने से रही,
छोड़कर सबको मुसीबत में तो जाने से रही,
ये सियासत मुझे इस घर से भगाने से रही।
उठके इस मिट्टी से, ये मिट्टी भी तो जाने से रही।

सब मेरे बाग के बुलबुल की तरह लगते हैं,
सारे बच्चे मुझे राहुल की तरह लगते हैं।

अपने घर में ये बहुत देर कहाँ रहती है,
घर वही होता है औरत जहाँ रहती है।
कब किसी घर में सियासत की दुकाँ रहती है,
मेरे दरवाज़े पर लिख दो यहाँ मां रहती है।

हीरे-मोती के मकानों में नहीं जाती है,
मां कभी छोड़कर बच्चों को कहाँ जाती है?

हर दुःखी दिल से मुहब्बत है बहू का जिम्मा,
हर बड़े-बूढ़े से मोहब्बत है बहू का जिम्मा
अपने मंदिर में इबादत है बहू का जिम्मा।

मैं जिस देश आयी थी वही याद रहा,
हो के बेवा भी मुझे अपना पति याद रहा।

मेरे चेहरे की शराफ़त में यहाँ की मिट्टी,
मेरे आंखों की लज़ाजत में यहाँ की मिट्टी।
टूटी-फूटी सी इक औरत में यहाँ की मिट्टी।

कोख में रखके ये मिट्टी इसे धनवान किया,
मैंन प्रियंका और राहुल को भी इंसान किया।

सिख हैं, हिन्दू हैं मुलसमान हैं, ईसाई भी हैं,
ये पड़ोसी भी हमारे हैं, यही भाई भी हैं।
यही पछुवा की हवा भी है, यही पुरवाई भी है,
यहाँ का पानी भी है, पानी पर जमीं काई भी है।

भाई-बहनों से किसी को कभी डर लगता है,
सच बताओ कभी अपनों से भी डर लगता है।

हर इक बहन मुझे अपनी बहन समझती है,
हर इक फूल को तितली चमन समझती है।
हमारे दुःख को ये ख़ाके-वतन समझती है।

मैं आबरु हूँ तुम्हारी, तुम ऐतबार करो,
मुझे बहू नहीं बेटी समझ के प्यार करो।

(शाहदाबा)

Leave a Reply