शब-ए-मह में देख उस का वो झमक झमक के चलना-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

शब-ए-मह में देख उस का वो झमक झमक के चलना-ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazeer Akbarabadi

शब-ए-मह में देख उस का वो झमक झमक के चलना
किया इंतिख़ाब मह ने ये चमक चमक के चलना

रविश-ए-सितम में आना तो क़दम उठाना जल्दी
जो रह-ए-कम में आना तो ठिठक ठिठक के चलना

न धड़क हो जो निकलना तो सर-ए-ख़तर पे ठोकर
जो नज़र गुज़र से डरना तो झिजक झिजक के चलना

जो नवाज़िशों पे आना तो रगड़ के दोश जाना
जो सर-ए-इताब होना तो फटक फटक के चलना

है खुबा ‘नज़ीर’ अब तो मिरे जी में उस सनम का
वो अकड़ के धज दिखाना वो हुमक हुमक के चलना

Leave a Reply