शफ़क़ की राख में जल-बुझ गया सितारः-ए-शाम-दस्ते सबा -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

शफ़क़ की राख में जल-बुझ गया सितारः-ए-शाम-दस्ते सबा -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

शफ़क़ की राख में जल-बुझ गया सितारः-ए-शाम,
शबे-फ़िराक़ के गेसू फ़ज़ा में लहराए

कोई पुकारो कि इक उम्र होने आई है
फ़लक को क़ाफ़िलः-ए-रोज़ो-शाम ठहराए

ये ज़िद है यादे-हरीफ़ाने-बादः पैमाँ की
केः शब को चाँद न निकले, न दिन को अब्र आए

सबा ने फिर दरे-ज़िंदाँ पे आ के दी दस्तक
सहर क़रीब है, दिल से कहो न घबराए

Leave a Reply