वो दौर था-उमेश दाधीच -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Umesh Dadhich

वो दौर था-उमेश दाधीच -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Umesh Dadhich

जिन्दगी का बडा वो खूबसूरत
दौर था ।
मेरे दिल में भी तेरे दिल सा ही
शोर था ।

दिल दिन को रात और रातों को
दिन मानने लगा था ।
तुझको मेरी हर खुशी और मन्नत
में माँगने लगा था ।
मेरे बातों में तेरे सिवा ना कोई
और था ।
जिन्दगी का वो बडा खूबसूरत
दौर था ।।
बातों को सुनने का तेरी बस
इन्तजार रहता था ।
रातों को तेरी ही यादों से बस
प्यार रहता था ।
दिल पर अबसे मेरे तेरा ही तो
जोर था ।
जिन्दगी का वो बड़ा खूबसूरत
दौर था ।।

देख रहे थे नैन दोनों के हसीं
सपने ।
मान बैठे थे एक दुसरे को हम
अपने ।
अपनी चाहत का हल्ला सब
ओर था ।
जिन्दगी का वो बड़ा खूबसूरत
दौर था ।।

Leave a Reply