वो क्या कुछ न करने वाले थे -गुमाँ-ग़ज़लें-जौन एलिया -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaun Elia

वो क्या कुछ न करने वाले थे -गुमाँ-ग़ज़लें-जौन एलिया -Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaun Elia

 

वो क्या कुछ न करने वाले थे
बस कोई दम में मरने वाले थे

थे गिले और गर्द-ए-बाद की शाम
और हम सब बिखरने वाले थे

वो जो आता तो उस की ख़ुश्बू में
आज हम रंग भरने वाले थे

सिर्फ़ अफ़्सोस है ये तंज़ नहीं
तुम न सँवरे सँवरने वाले थे

यूँ तो मरना है एक बार मगर
हम कई बार मरने वाले थे

Leave a Reply