वेख मरदान्यां तूं रंग करतार दे -कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

वेख मरदान्यां तूं रंग करतार दे -कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

(इक सुपना)

उठ मरदान्यां तूं चुक लै रबाब भाई,
वेखीए इकेरां फेर रंग संसार दे ।
पै रही आवाज़ कन्नीं मेरे है दरद वाली,
आ रहे सुनेहड़े नी डाढे हाहाकार दे ।
जंगलां पहाड़ां विच वसतियां उजाड़ां विच,
पैन पए वैन वांङूं डाढे दुख्यार दे ।
चल्ल इक वेर फेरा पावीए वतन विच,
छेती हो विखाईए तैनूं रंग करतार दे ।

वेख तूं पंजाब विच लहू दे तालाब भरे,
हसदे ने कोई, कोई रो रो के पुकारदे ।
करदे सलामां कई रिड़्हदे ने ढिडां भार,
वेखदे तमाशा कई गोले सरकार दे ।
ताड़ ताड़ गोलियां चलांवदे बिदोस्यां ते,
बन्द्यां दे उते ढंग सिखदे शिकार दे ।
लख लख मिलदे इनाम पए शिकारियां नूं,
पशूआं दे वांग जेहड़े बच्चे बुढे मारदे ।

असां नहीउं लैणियां वधाईआं अज किसे पासों,
अज मेरे सीने विच फट नी कटार दे ।
जदों तीक होंवदी खलास नहींयों बन्दियां दी,
जदों तीक दुखी लखां दबे हेठां भार दे ।
जदों तीक तोपां ते मशीनां दा है राज इथे,
सच दे नी चन्न दबे हेठां अंधकार दे ।
ओदों तीक चैन नहीं मैनूं मरदान्यां वे,
सोचां, इह की वरत रहे रंग करतार दे ।

वेख्या तमाशा मरदान्या ई कदी तुध ?
सैर मेरे नाल कीते सारे संसार दे ।
अग लैन आई ते सुआनी बनी सांभ घर,
घूर घूर हुकम मनावे हंकार दे ।
खावो पीवो बोलो चालो आवो जावो पुछ पुछ,
हुकम पए चलदे ने डाढी सरकार दे ।
सच दे प्यारे कई ताड़े बन्दीखाने विच,
वेख मरदान्यां तूं रंग करतार दे ।

इक पासे तोप ते मशीनां, बम्ब, जेहल, फांसी,
कहन्दे, कौन आ के साडे साहवें दम मारदे ।
‘सच’ ते ‘न्याइ’ झंडा पकड़ के आज़ादी वाला,
दूजे पासे वतन दे सूरमे वंगारदे ।
सूरज आज़ादी वाला बदलां ने घेर ल्या,
काले काले घनियर शूंकदे फूंकारदे !
मार लिशकारे पर सूरज अकाश चड़्हे,
वेख मरदान्यां तूं रंग करतार दे ।

वेख तलवंडी विच भंडियां नी मच रहियां,
रंडियां दे नाच हुन्दे विच दरबार दे ।
उठ गईआं सफ़ां मरदान्यां असाडियां ओ,
कौन आ के कहे अज हाल दिलदार दे ।
जिथे सचे सौद्यां दे कीते सतसंग असां,
जिथे दिन कटे असां नाल राय बुलार दे ।
ओथे अज लगियां दुकानां दुराचार दियां,
वेख मरदान्यां ए रंग करतार दे ।

दस केहड़ी थांइ पहलां चलीए प्यार्या वे,
आंवदे सन्देसे सभ पासों वांग तार दे ।
चलीए हज़ारी बाग़ बीर रणधीर पास,
चकियां पेहाईए कोल बैठ सोहने यार दे ।
चन्दन दे बूटे ने महकाई है सुगंध जिथे,
सुंघ लईए भौर बण फुल गुलज़ार दे ।
अज इह हज़ारी बाग़ लक्खी ते करोड़ी बाग़,
सांईं दे प्यारे इह तों तन मन वारदे ।

फेर अंडेमान फेरा पावीए प्यार्या वे,
देश दे प्यारे जिथे दुखड़े सहारदे ।
पिंजरे दे विच कोई पुछदा ना बात जिथे,
जप के आज़ादी ‘नाम’ समें नूं गुज़ारदे ।
छाती ला के सार्यां प्यार्यां नूं इक वेर,
फेर जा जगाईए सुत्ते होए शेर बार दे ।
खुल्ह गई अक्ख ‘शेरा उठ’ दी आवाज़ सुण,
सुपने विखाए डाढे रंग करतार दे ।

(नवम्बर १९२०)

Leave a Reply