वीरा के नाम-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : फ़ैज़ अहमद फ़ैज़) 

वीरा के नाम-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : फ़ैज़ अहमद फ़ैज़)

उसने कहा, आओ
उसने कहा, ठहरो
मुस्कायो, कहा उसने
मर जायो, कहा उसने
मैं आया
मैं ठहर गया
मुस्काया
और मर भी गया

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply