विवशता -कविताएँ-अयोध्यासिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh,

विवशता -कविताएँ-अयोध्यासिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’’-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ayodhya Singh Upadhyay Hariaudh,

रहा है दिल मला करे ।
न होगा आँसू आए ।
सब दिनों कौन रहा जीता ।
सभी तो मरते दिखलाए ।1।

हो रहेगा जो होना है
टलेगी घड़ी न घबराए।
छूट जाएँगे बंधन से।
मौत आती है तो आए।2।

Leave a Reply