विकास-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

विकास-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

विकास इस दिशा में हुआ है;
अब बहुत आदमी
बे-सिर पैर का हुआ है

पीठ के नीचे धूल पड़ी है
पेट पर आसमान खड़ा है
हाथ के हल गिर पड़े हैं

रचनाकाल: ३१-०१-१९६९

 

Leave a Reply