वाइज़ और मैं…-ग़ज़लें-मोहनजीत कुकरेजा -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mohanjeet Kukreja Ghazals

वाइज़ और मैं…-ग़ज़लें-मोहनजीत कुकरेजा -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mohanjeet Kukreja Ghazals

दिल की बात कह दूँ उन से, वो ताब अपने में ला ना सका,
कोशिश कर ली लाख मगर उनको कभी मैं भुला ना सका !

तजुर्बों की कोई कमी नहीं, क़िस्से-अफ़्साने भी काफी थे…
दुनिया तो सुनना चाहती थी बस मैं ही कभी सुना ना सका !

ख़्वाबों की अब क्या बात करें, चाहत का क्यों अब चर्चा हो,
सपनों के सच ना होने की ज़िद आँखों को समझा ना सका !

काम मुकम्मल किये बहुत, कुछ मुश्किल थे तो कुछ आसाँ…
होश ठिकाने, दिल क़ाबू में लेकिन कभी भी आ ना सका !

कुछ नयी कुछ पुरानी यादें, हर्फ़ बन बन कर बिखरी थीं…
बहा न सका, जला न सका, उन पन्नों को दफ़्ना ना सका !

वाइज़ बुलाये मस्जिद में मुझ को, मैं उस को मैख़ाने में…
दोनों ही धुन के पक्के थे, वो आ ना सका, मैं जा ना सका !

Leave a Reply