वह – 3-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

वह – 3-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

 

वह
जाकर
चली आती है
रूपए लेकर
बलात्कार भोगकर
दूसरों के साथ,
ब्याह गए
बुद्धू के साथ
समाज की आँखों में
जीने के लिए
कैद
और कुंठित।

रचनाकाल: २०-०६-१९७२

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply