वलियां दा वली-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

वलियां दा वली-कविताएं-गुरु नानक देव जी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Guru Nanak Dev Ji

पंडतां दे सिरां उतों हौमैं वाली पंड लाहके,
ठग्गां नूं वी ठग्ग, किवें सज्जन बणाई दा ।
जुगत नाल जोगी दा अजोगपन दूर कर,
दस्स देना एदां, जोग जोगियां कमाई दा ।
पानी पानी प्रोहत कीते नहर कट्ट पानी वाली,
सुनी जां कहानी पानी पित्रां पिलाई दा ।
सिधो ! मन सुध करो, हौमैं नाल युध करो,
साधो ! मन साधे बिन साध ना सदाई दा ।
नीव्यां दे नाल बैठ नीवें हो के नीव्यां नूं,
अंग नाल ला के किवें उच है बणाई दा ।
भागो मन्द भागी दी त्याग सभ खीर पूरी,
कोधरे दी रोटी जा के लालो पास खाई दा ।
कैसे वल नाल वल दूर कीता वली दा वी,
इहो सीगा भाव मरदाने दी दुहाई दा ।
पंजे दी निशानी तों कहानी सभ जानी जांदी,
वलियां दे ताईं किवें सिद्धे राह पाई दा ।
वड्डी होवे मानता ते किन्ना उच पीर होवे,
नफा संसार नूं ना उहदी उच्याई दा ।
बेरी नालों बेर फेर औण हत्थ खान लई,
इक हत्थ नाल जदों डाली नूं झुकाई दा ।
रोक के पहाड़ी कोई इह तां नहीं सी दस्सणा, कि
ऐडी वडी चीज़ किवें हत्थ ते टिकाई दा ।
दस्सना तां इहो सीगा, उहो फेर दस्स दित्ता,
‘वलियां दे ताईं किवें सिद्धे राह पाई दा’ ।
सुरत वाला गड्डा तुरत गड्ड जांदा गार विच,
भार होवे हौमैं दा जि दाना जिन्ना राई दा ।
आई जदों हौमैं, जान, ग्या मान, गई शान,
फक्का चुका देंदी रहन नाहीं वड्याई दा ।
वली कंधारी हंकारी दी सुरत हारी,
ला के चोट कारी कीकूं उहनूं शरमाई दा ।
वलियां दा वली ही तां भली भांत दसे ठीक,
वलियां दा वल किवें कढ के विखाई दा ।
वल वाले वली तों उह अल्ला वाला वली बणे,
इक पासों पुट्ट किवें दूजे बन्ने लाई दा ।
पीरां दे वी पीर ते फकीरां दे फकीर वड्डे,
वलियां दे वली कंम कीता अगवाई दा ।
भोगियां दे भोग छुडवाए ते हटाए रोग,
अंत कौन पावे उहदी कीमती दवाई दा ।
‘नानक’ दे बिनां ना अनक जग जाणदा है,
वलियां दे ताईं किवें सिद्धे राह पाई दा ।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply