लौह-ए-मज़ार-नज़्में जाँ निसार अख़्तर-जाँ निसार अख़्तर-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaan Nisar Akhtar

लौह-ए-मज़ार-नज़्में जाँ निसार अख़्तर-जाँ निसार अख़्तर-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaan Nisar Akhtar

ढल चुका दिन और तेरी क़ब्र पर
देर से बैठा हुआ हूँ सर-निगूँ
रूह पर तारी है इक मुबहम सुकूत
अब वो सोज़-ए-ग़म न वो साज़-ए-जुनूँ
मुस्तक़िल महसूस होता है मुझे
जैसे तेरे साथ मैं भी दफ़्न हूँ

Leave a Reply