लेनिन-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

लेनिन-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

लेनिन
एक व्यक्ति था पहले,
नामों में एक नाम था पहले,
सबकी जबान पर चढ़ा।

लेनिन
अब हो चुका है
अवनी और आकाश-
पवन-पानी और प्रकाश।
लेनिन
नहीं है-नहीं है
पत्थर की एक मूर्त्ति,
तोड़ दे जिसे कोई

लेनिन
नहीं है-नहीं है
रेखांकित एक चित्र,
फाड़ दे जिसे कोई।

लेनिन
सूर्य है सूर्य
सत्य की रश्मियों का
सूर्य,
असत्य को भेद रहा
सूर्य!

रचनाकाल: २१-०१-१९९१

 

Leave a Reply