लंमी रात सी दर्द फ़िराकवाली-पंजाबी कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

लंमी रात सी दर्द फ़िराकवाली-पंजाबी कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

लंमी रात सी दर्द फ़िराकवाली
तेरे कौल ते असां वसाह करके
कौड़ा घुट्ट कीती मिट्ठड़े यार मेरे
मिट्ठड़े यार मेरे जानी यार मेरे
तेरे कौल ते असां वसाह करके
झांजरां वांग, ज़ंजीरां झणकाईआं ने
कदी पैरीं बेड़ीआं चाईआं ने
कदी कन्नीं मुन्दरां पाईआं ने
तेरी तांघ विच पट्ट दा मास दे के
असां काग सद्दे, असां सींह घल्ले

रात मुकदी ए यार, आंवदा ए
असीं तक्कदे रहे हज़ार वल्ले
कोई आया ना बिना ख़ुनामियां दे
कोई पुज्जा ना सिवा उलाहम्यां दे

अज्ज लाह उलाहमे मिट्ठड़े यार मेरे
अज्ज आ वेहड़े विछड़े यार मेरे
फ़जर होवे ते आखीए बिसमिल्लाह
अज दौलतां साडे घर आईआं ने
जेहदे कौल ते असां वसाह कीता
उहने ओड़क तोड़ निभाईआं ने

Leave a Reply