रामस्वरूप -जो करे सो जोकर-अशोक चक्रधर-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ashok Chakradhar ,

रामस्वरूप -जो करे सो जोकर-अशोक चक्रधर-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ashok Chakradhar ,

दरोगा जी
आश्चर्य में जकड़े गए,
जब सिपाही ने बताया
रामस्वरूप ने चोरी की
फलस्वरूप पकड़े गए।

दरोगा जी बोले
ये क्या रगड़ा है ?
रामस्वरूप ने चोरी की
तो फलस्वरूप को क्यों पकड़ा है?

सिपाही बार-बार दोहराए
रामस्वरूप ने चोरी की
फलस्वरूप पकड़े गए
दरोगा भी लगातार
उस पर अकड़े गए।

दृश्य देख कर
मैं अचंभित हो गया,
लापरवाही के अपराध में
भाषा-ज्ञानी सिपाही
निलंबित हो गया।

Leave a Reply