राग विभास-प्रेममालिका -भारतेंदु हरिश्चंद्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bharatendu Harishchandra

राग विभास-प्रेममालिका -भारतेंदु हरिश्चंद्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bharatendu Harishchandra

भोर भये जागे गिरिधारी

भोर भये जागे गिरिधारी।
सगरी निसि रस बस कर बितई, कुंज-महल सुखकारी।
पट उतारि तिय-मुख अवलोकत चंद-बदन छवि भारी।
बिलुलित केस पीक अरु अंजन फैली बदन उज्यारी।
नाहिं जगावत जानि नींद बहु समुझि सुरति-श्रम भारी।
छबि लखि मुदित पीत पट कर लै रहे भँवर निरुवारी।
संगम धुनि मधुरै सुर गावत चौंकि उठी तब प्यारी।
रही लपटाइ जंभाइ पिया उर, ‘हरीचंद’ बलिहारी॥

जागे माई सुंदर स्यामा-स्याम

जागे माई सुंदर स्यामा-स्याम।
कछु अलसात जँभात परस्पर टूटि रही मोतिन की दाम।
अधखुले नैन प्रेम की चितवनि, आधे-आधे वचन ललाम।
बिलुलति अलक मरगजे बागे नख-छत उरसि मुदाम।
संगम गुन गावत ललितादिक, बाजत बीन तीन सुर ग्राम।
‘हरीचंद’ यह छबि लखि प्रमुदित तृन तोरत ब्रज-वाम॥

Leave a Reply